anulom vilom kaise karte hai नाड़ीशोधन कैसे करते है, इसके फायदे

anulom vilom kaise karte hai- अनुलोम विलोम प्राणायाम को अगर सही तरीके से किया जाए तो यह बहुत फायदेमंद होता है जो हमें कई तरह के लाभ देता है तो चलिए इसके करने के तरीके और फायदे सहित सावधानी के बारे में जानते हैं।

अनुलोम विलोम करने का तरीका – anulom vilom kaise karte hai?

  1. किसी खुली व स्वच्छ वातावरण वाली जगह पर बैठने के लिए जमीन पर आसन लगाये।
  2. अब आसन पर पलथी मारकर टाइट बैठ जाये यह मुद्रा उचित होती है।
  3. अगर पैरो में दर्द हो तो आप पैर फैला कर भी बैठ सकते है।
  4. ध्यान रहे! की आपके कमर के ऊपर का भाग खम्भे की तरह सीधा होना चाहिए।
  5. अब आखें बंद कर के श्वास प्रणाली पर ध्यान लगाये और दाहिने हाथ के अंगूठे से नाक के दाएं छिद्र को बंद करें और बायीं छिद्र से धीरे धीरे साँस ले।
  6. छमतानुसार साँस लेने के बाद बायीं छिद्र को भी अंगूठे के बगल वाली दो अंगुलियों से बंद कर ले।
  7. दोनों छिद्रों को बंद कर साँस को कुछ समय अपने छमतानुसार रोके।
  8. फिर साँस रोकने के बाद साँस को  दाहिने छिद्र से धीरे-धीरे निकाले।
  9. साँस छोड़ने के बाद अबकी बार बाये छिद्र को बंद कर दाहिने छिद्र से धीरे-धीरे साँस ले।
  10. साँस लेने के बाद दोनों छिद्रों को बंद कर साँस रोके।
  11. अबकी बार साँस को बायीं छिद्र से निकाले।
  12. इसी चक्र को दोहराते रहे शुरू के दिनों में 2 -4 मिनट तक करें। दिन प्रतिदिन कुछ समय बढ़ा कर बाद में रोजाना 10 मिनट तक करें।
  • इन्हें भी पढ़ें

नाड़ीशोधन (अनुलोम विलोम) प्राणायाम के लाभ –

  1. नाड़ीशोधन  प्राणायाम को करने से शरीर के रक्त की अशुद्धियां दूर होती है और शरीर में भरपूर ऑक्सीजन जाती है जिससे रक्त चाप भी ठीक रहता है।
  2. अगर आपके सर में दर्द रहता है या आप ज्यादा समय ऑफिस में या कही और काम करते है तो अनुलोम विलोम प्राणायाम को करने से सर दर्द से आराम मिलता है तथा दिन भर शरीर में ताजगी बनी रहती है।
  3. श्वास संबंधी समस्या दूर होती है जैसे – दमा इत्यादि। श्वसन प्रणाली भी सुचारु रूप से काम करने लगती है।
  4. शरीर में कही दर्द होता हो (पुराना दर्द) तो कुछ दिन अनुलोम विलोम प्राणायाम के  लगातार करने पर दर्द  खत्म हो सकता है क्योंकि, इस प्राणायाम के करने पर शरीर में ऊर्जा प्रवाह अच्छा होता है।
  5. नाड़ीशोधन प्राणायाम से शरीर में ऑक्सीजन की कमी नहीं होती है जिससे मांसपेशियां भी स्वस्थ व मजबूत होती है।
  6. तनाव या चिंता जो की आम समस्या हो गयी है को काम करता है।
  7. आपके ध्यान व मन की एकाग्रता  में वृद्धि करता है।

नाड़ीशोधन (अनुलोम विलोम) प्राणायाम में सावधानियां –

  1. दूषित वातावरण या बंद कमरे या काम वायु वाली जगह पर व्यायाम न करें।
  2. शुरुआत में श्वास को धीरे-धीरे ग्रहण करें और छोड़े।
  3. शुरुआत में श्वास को काफी देर तक न रोके बल्कि शुरुआत में काम और बाद में श्वास रोकने के समय को बढ़ाते जाये।
  4. शोर गुल वाली जगह पर प्राणायाम न करें। शांत व स्वच्छ जगह पर ही करें।
  5. अनुलोम विलोम प्राणायाम जल्दबाजी में ना करें बल्कि आराम और स्थिर मन से करना चाहिए
  6. नाड़ीशोधन प्राणायाम रोजाना करें, गैप न करें। जैसे – 1 दिन किया और 2 दिन नहीं या 2 दिन किया तो 1 दिन नहीं। ऐसा नहीं करें।
  7. श्वास को हद से ज्यादा देर तक नहीं रोके रहना चाहिए।

anulom vilom kaise karte hai का यह लेख कैसा लगा हमें जरूर बताएं।

Default image
Sarthak upadhyay
Sarthak upadhyay is a health blogger and creative writer, who loves to explore various facts, ideas, and aspects of life and pen them down. sarthak is known with English and hindi. Writing is his passion, and enjoys writing on a vast variety of subjects. Relationship, Astrology, and entertainment, Periods, pregnancy, and Home-remedies are his specialty areas.

Leave a Reply