हल्दी के फायदे नुकसान- haldi ke fayde aur nuksan
Turmeric

हल्दी के होते हैं कई औषधीय गुण, 16 बड़े फायदे और कुछ नुकसान

Posted on

अगर आप हमसे फेसबुक में बात कर के सीधा जवाब पाना चाहते हैं तो नीचे दी गई contact us बटन पर क्लिक करें!

एक नजर

  • हल्दी खाने के कई फायदे होते हैं।
  • इस्तेमाल करने के पहले इसके नुकसान को जानना बहुत जरूरी है।
  • हल्दी को प्रयोग करने के कई सारे तरीके हैं।
  • दिन में 400-500 मिलीग्राम से ज्यादा हल्दी का सेवन नहीं करना चाहिए।

शायद ही ऐसा कोई व्यक्ति हो जो हल्दी को ना जानता हो क्योंकि, यह भोजन में प्रयोग होने वाला एक ऐसा मसाला है जो रोजाना प्रयोग किया जाता है। इसके पीछे का कारण है इसके कई महत्वपूर्ण व लाभकारी गुण! जो हमारे जीवन के कई कष्टदायी स्थिति में लाभ पहुंचाते हैं।

परंतु, कई लोगों को हल्दी के कई गुण नहीं पता होते हैं और ना ही कष्ट में प्रयोग करने का तरीका।इसलिए मैं यह पोस्ट लिख रहा हूं जहां पर हल्दी के औषधीय गुण के बारे में आप जान पाएंगे। हल्दी को अंग्रेजी में टर्मरिक भी कहते है।

हल्दी के औषधीय गुण व फायदे -(Haldi ke fayde)-

कैंसर के रोकथाम में

कैंसर एक ऐसी बीमारी है जिसके नाम से ही रूह काप जाती है। इसलिए यह हमेशा दूर ही रहे तो ठीक है। ऐसे में हल्दी एक बहुत ही अच्छी औषधि है जिसके सेवन करते रहने से कैंसर होने की संभावना 70 से 80 परसेंट तक कम हो जाती है।

इसके रोजाना सेवन करने के लिए भोजन में रोज उचित मात्रा में हल्दी डालकर ही भोजन पकाएं और खाएंं। ऐसा शोध में भी पाया गया है कि हल्दी में कैंसर से बचाव के गुण होते है।

हड्डी के टूटने पर

अगर किसी की हड्डी टूटी हो तो आप पहले उस जगह पर प्लास्टर लगाएं। नहीं तो आप बांस या किसी सीधी लकड़ी को उस जगह पर बांध दें और उस जगह को हिलाए डुलाये नहीं।

इसके अलावा आप दूध में हल्दी की उचित मात्रा डालकर रोजाना सेवन करें इससे आपकी हड्डी जल्दी जुड़ जाएगी।

चोंट और मोच आने पर

 कहीं भी आपके शरीर में चोट लग गया हो या मोच आ गया हो तो, आप पहला काम यह करे कि हल्के सरसों के तेल में हल्दी और पिसे प्याज को डाल कर गर्म कर लें और जब यह गर्म पेस्ट सहने योग्य हो जाये तो आप इसे मोच वाली जगह पर बनी पेस्ट को लगा कर किसी कपड़े से बांध दें। जल्द ही दर्द दूर हो जाएगा।

घुटने का दर्द और गठिया ठीक करने में

अगर आपके घुटनों में दर्द रहता हो तो आप हल्दी को लें और उसमें हल्की मिश्री, हल्का पानी और थोड़ी मात्रा में चूना मिलाकर लेप बना लें, जब लेप गाढ़ा लाल रंग का बनके तैयार होगा तो इसको दोनों घुटनों पर अच्छी तरह से लगाकर ऊपर से कपड़ा बांध दें।

आपको लेप लगाये भाग में ठंडक महसूस होगी। दूध में हल्दी डालकर पिए। एक सप्ताह के लगातार प्रयोग से आपके घुटने का दर्द दूर होगा।

चेहरे के निखार और मुहाँसे के लिए

अगर आपके चेहरे और शरीर पर दाग धब्बे हो रहे हो या एलर्जी हो तो आप हल्दी का इस्तेमाल कर सकते हैं।

चेहरे की चमक बढ़ाने के लिए आप हल्की पीसी हल्दी को लें और उसमें हल्का टमाटर रस और नींबू के 2,4 बूंद मिला ले इन सबको मिलाकर एक लेप तैयार करें और चेहरे पर कुछ समय के लिए लगाएं और फिर धो लीजिए।

चेहरे में अगले दिन निखार आ जाएगा। इसके अलावा हल्दी के पाउडर में चन्दन मिला कर बने पेस्ट को मुहासे पर लगाने पर भी चेहरा साफ होता है। इसका साक्ष्य शादी विवाह में देखने को मिलता है जब दूल्हा दुल्हन को पूरे शरीर पर हल्दी लगाई जाती है।

बहते खून को रोकने में

अगर आपको चोट लग गई हो या किसी धारदार वस्तु से कहीं शरीर में कट गया हो तो आप हल्दी के साथ थोड़ी फिटकरी को मिला कर लगा दे।

ऐसा करने से आपके चोट का खून बहाव रुक जायेगा और घाव भी जल्दी भरता है। क्योकि, हल्दी में एंटी बैक्टीरियल और एंटीसेप्टिक गुण पाए जाते है जो बक्टिरिया को पनपने नही देता।

 खुली आवाज के लिए

अगर आप अपनी आवाज में निखार व खुलापन चाहते हैं तो आप रोजाना रात में सोते समय दूध में हल्दी डालकर पिए। इससे दबी आवाज खुलती है और शरीर भी मजबूत होता है।

मुंह का छाला ठीक करने में

हल्दी को गर्म पानी में डालकर उबाले और इस पानी का कुल्ला करें। इससे आपके मुंह के छाले ठीक हो जाएंगे।

पाचन शक्ति बढ़ाने में

हल्दी के सेवन करने से आपका  पाचन क्रिया ठीक होता है और आपको गैस, एसिडिटी जैसी समस्या नहीं होती है।इसके अलावा और भी पेट से जुडी समस्या नहींहोती है इसलिए भी इसे भोजन में रोजाना डाल कर पकाया जाता है।

विषैले जंतु के काटने पर

अगर आप को विषैला जंतु काट ले तो हल्दी को हल्का गर्म कर डंक पर लगाने से आराम मिलाता है।

हृदय के लिए है फायदेमंद

साल भर में लगभग 31 प्रतिशत लोगों की मृत्यु हृदयघात और भी कई दिल से सम्बंधित समस्याओं के चलते होती है। हल्दी में कई ऐसे एंटी-ओक्सिडेंट होते हैं जो हृदय सम्बंधित कई बीमारियों को दूर रखने का काम करते हैं और आपके हार्ट के पॉवर को भी बूस्ट करते हैं।

डायबिटीज के लिए

हल्दी-दूध का सेवन डायबिटीज की समस्या को आपसे कोशों दूर रखता है। हल्दी बीटा कोशिकाओं के कामकाज में भी सुधार करता है। बीटा कोशिकाएं इंसुलिन बनाती हैं जिससे शरीर में शुगर लेवल नियंत्रित रहता है।

तनाव दूर करता है

अगर आप हमेशा तनाव ग्रसित रहते हैं तो हल्दी दूध मिलाकर उसका सेवन करने से आप अपने तनाव को आसानी से दूर कर सकते हैं। यह आपके दिमाग को फ्रेश रखता है और आपके तनाव को भी दूर रखता है।

सर्दी-जुकाम के लिए

अक्सर आयुर्वेद में यह जिक्र किया जाता है की हल्दी को सर्दी और जुकाम के लिए इस्तेमाल किया जाता है। दरअसल, इसमें एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण मौजूद होता है जो सर्दी-जुकाम को दूर करने के लिए एक बेहतर विकल्प है।

सर्दी-जुकाम हो जाने पर आप हल्दी को दूध के साथ उबालकर उसका तल्फा बनाएँ और दिन में चार बार पियें।

वजन कम करने के लिए

हल्दी के सेवन से बॉडी का मेटाबोलिज्म बहुत तेज हो जाता है जिससे आप आसानी से अपने वजन को कम कर सकते हैं। इतना ही नहीं यह आपके वजन को कांस्टेंट रखता है और आपके वजन को बढ़ने नहीं देता है।

लीवर स्वस्थ रखता है

ल्लिवर के लिए हल्दी को एक टॉनिक कहना गलत नहीं होगा। यह आपके लीवर को रिपेयर करने में कोई भी कसर नहीं छोड़ता है और इसके डिफेक्ट सुधारता है और आपके शरीर की उन सभी परफॉरमेंस को बेहतर बनाता है जो लीवर से जुड़े हुए हैं।

दिन में कितनी मात्रा में हल्दी का सेवन कर सकते हैं

हल्दी को आप दिन में 400 से 500 मिलीग्राम की मात्रा तक ले सकते हैं।इतनी मात्रा को आप दो या तीन बार में कवर करे तो बेहतर होगा। इसके सकारातमक प्रभाव के लिए आप इसे लगातार कई दिनों तक इस्तेमाल करें।

हल्दी का इस्तेमाल कैसे करें

हल्दी इस्तेमाल करने के कई सारे तरीके हैं। हम उनमे से कुछ ख़ास तरीके आप से साझा करेंगे।

  1. सब्जी में हल्दी की मात्रा ज्यादा कर लें। लेकिन, इस दौरान आप हल्दी को अच्छी तरह से भून लें ताकि स्वाद ज्यादा खराब न लगे।
  2. सलाद में कुछ मात्रा में हल्दी पाउडर को छिडक लें और खाएंँ। इससे सलाद का स्वाद भी बेहतर हो जाएगा।
  3. आप सूप निर्माण के दौरान भी हल्दी को भूनकर या कच्ची हल्दी का प्रयोग कर सकते हैं।
  4. दूध के साथ हल्दी मिलाकर पीना आपके लिए और भी ज्यादा फायदेमंद है।
  5. सुबह के नाश्ते में एक चुटकी हल्दी धुरक के खाई जा सकती है।

हल्दी का सेवन करने से नुकसान

गर्भावस्था और स्तनपान में हो सकती है समस्या

अगर आप गर्भवती हैं या फिर स्तनपान कराने वाली महिला हैं तो हल्दी के सेवन से पहले आप इसके सेवन करने की निश्चित मात्रा तय कर लें।

अगर आप निर्धारित मात्रा से ज्यादा हल्दी खाती हैं तो यह समस्या पैदा कर सकती है। लेकिन, सीमित मात्रा में इसका सेवन इस दौरान महिला को लाभ भी देता है।

इसलिए आप डॉक्टर से इसका सही डोज तय करा के ही हल्दी का सेवन करें।

किडनी स्टोन हो सकता है

हल्दी में लगभग दो प्रतिशत oxalate की मात्रा मौजूद होती है, इसलिए अगर इसका सेवन अत्यधिक मात्रा में किया जाता है तो (पथरी) किडनी स्टोन होने का खतरा बहुत ज्यादा हो जाता है।

अगर आप किडनी स्टोन के मरीज है तो इसका सेवन करने से खुद को बचाएं।

खून की कमी

हल्दी शरीर में आयरन का absorption नहीं होने देता है और यही वजह है कि आपके शरीर में खून की कमी हो सकती है। इसलिए हल्दी का हाई डोज नहीं लेना चाहिए।

लगातार ब्लीडिंग होना

हल्दी का सेवन ब्लड क्लॉटिंग को प्रभावित करता है और चोंट लग जाने के कारण गिरने वाला खून जल्दी बंद नहीं होता है। इसलिए इसका ज्यादा सेवन कभी न करें। खासकर! अगर सर्जरी होने वाली हो।

सारांश

हल्दी पूर्ण रूप से हमारे स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए एक बेहतर औषधि है जो ज्यादातर फायदेमंद होती है। लेकिन, फिर भी अगर आप ऊपर बताए गए इसके नुकसान से जुड़े हैं तो इसके सेवन से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

आप अपने खाने में हल्दी को किस तरह इस्तेमाल करते हैं? यह हमें कमेंट में बताएँ और इस लेख को शेयर भी करें।

Gravatar Image
Lyfcure specifically shares important information related to pregnancy, periods and home remedies. Lyfcure has introduced a lot of pregnancy and health related information to the whole people in 2018 who belongs to india and reads hindi. we are mot popular in India as a health consultant.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *