jamun ke fayde

jamun ke fayde aur nuksan- जामुन खाने के फायदे और नुकसान

Posted on

अगर आप हमसे फेसबुक में बात कर के सीधा जवाब पाना चाहते हैं तो नीचे दी गई contact us बटन पर क्लिक करें!

अनानास की तरह जामुन में भी अनेक कुदरती औषधीय गुण भरे पड़े हैं। पूरे भारत में जामुन के सदा हरे रहने वाले पेड़ बहुतायत में पाए जाते हैं। जामुन का पेड़ करीब 100 फीट की ऊंचाई तक जा पहुंचता है और इसका पूर्ण विकसित तना 12-13 फीट की मोटाई लिए होता है। इसके फूल हरे, सफेद और खुशबू से भरे होते हैं। इसके फल के अंदर लंबी गुठली होती है। जुलाई के महीने में इस के पेड़ पर जामुनी रंग के जो फल लगते हैं उन्हें ही जामुन कहा जाता है। jamun ke fayde aur nuksan- जामुन खाने के फायदे और नुकसान

 

जामुन खाने के फायदे- jamun ke fayde

  1. जामुन के फलों से बना सिरका बहुत ही बढ़िया होता है। जामुन के रस से बने आसाव को जाम्बन के नाम से पुकारा जाता है। जामुन का फल जिगर व पाचन को उत्तेजित करने वाला होता है। जामुन की गिरी बिगड़ी पाचन क्रिया को सुधारती है। इसके प्रयोग से खून की शर्करा और पेशाब की शुगर कम होती है।
  2. दांत के रोगों में जामुन के पत्तों की राख बहुत ही गुणकारी होती है। इसकी राख मसूड़ों और दांतों पर लगाने व मलने से मसूड़े और दांत मजबूती पाते हैं।
  3. आंखों के मोतियाबिंद रोग में जामुन की गुठली काफी लाभदायक होती है। इसकी गुठली के चूर्ण को शहद में मिलाकर छोटी-छोटी गोलियां बनाएं। मोतियाबिंद से पीड़ित व्यक्ति सुबह-शाम इन गोलियों को खाएं और इन गोलियों को शहद में मिलाकर आंख में लगाएं। ऐसा करने से मोतियाबिंद रोग के रोगी को फायदा होता है।
  4. पायरिया रोग हमारे दांतो और हमारे मुंह की सारी सुंदरता को हर लेता है। इस समस्या से छुटकारा पाने के लिए जामुन के पके फल के रस को मुंह में भरकर उसे मुंह में अच्छी तरह हिलाएं डुलाएँ फिर उसका कुल्ला कर दें। ऐसा करने से दांतों का पायरिया ठीक हो जाता है।
  5. जामुन के रस को रोज पीने से कंठ रोग दूर होता है साथ ही मुंह की गर्मी से भी छुटकारा मिलता है।
  6. जामुन की गुठली से बना पाउडर शहद में मिला लें इस मिश्रण को बहने वाले कान में डालने से कान बहना खत्म हो जाता है।
  7. अगर मुंह में छाले हो गए हो तो जामुन के नरम पत्तों को पीसकर इस मिश्रण से कुल्ला करें। ऐसा करने से मुंह के छाले ठीक हो जाते हैं।
  8. नए जूते अक्सर पांव को जख्मी कर देते हैं। ऐसे जख्मी पांव पर जामुन की गुठली को पीस कर लगाने से जख्मी पांव जल्दी ठीक हो जाएंगे।
  9. जामुन के पत्तों को पीसकर बने लेप को लगाने से सफेद दागों से छुटकारा मिलता है।
  10. डायबिटीज के रोगियों को जामुन के फल बहुत ही लाभ पहुंचाते हैं। सबसे पहले जामुन के फल धूप में सुखाकर इसका चूर्ण बना लें। इसके चूर्ण को दिन में तीन बार पानी से लें। ऐसा करने से शुगर की बीमारी दूर होती है। जामुन की छाल भी शुगर की बीमारी में फायदा पहुंचाती है। इसकी छाल की राख के सेवन से पेशाब में शुगर की मात्रा खत्म हो जाती है। jamun ke fayde aur nuksan- जामुन खाने के फायदे और नुकसान
  11. बवासीर रोग से पीड़ित व्यक्ति अगर जामुन के पत्तों को प्रयोग में लाए तो उन्हें रोग में फायदा होगा। बवासीर के रोगी आधा किलो गाय के दूध में करीब 20 ग्राम जामुन के पत्ते घोट ले। इस मिश्रण को वह 7-8 दिनों तक सुबह शाम पिएं। ऐसा करने से बवासीर रोग में गिरने वाला खून रुक जाएगा।
  12. अफारा रोग में जामुन के सिरके का प्रयोग बहुत ही फायदेमंद होता है।
  13. आम की गुठली, जामुन की गुठली और काली हरड़ को बराबर-बराबर मात्रा में लेकर भून लें फिर उन्हें पीस लें। इस मिश्रण को खाने से हर प्रकार के दस्तों में फायदा होता है।
  14. जामुन की गुठली का रस पीने से तिल्ली में आई सूजन ठीक हो जाती है।
  15. संग्रहणी रोग में जामुन की छाल के रस में बकरी का दूध मिलाकर पीने से फायदा पहुंचता है।
  16. अगर आप पथरी की समस्या से परेशान है तो जामुन के फल खाने से यह समस्या दूर हो जाती है।
  17. जामुन के फल में अनगिनत खूबियां होती है इसे खाने से फोड़े फुंसियां ठीक हो जाती हैं।
  18. अगर दिल की धड़कन ठीक नहीं चल रही है तो जामुन का फल खाने से दिल की धड़कन सामान्य हो जाती है।
  19. खून में मौजूद विषैले तत्व जामुन खाने से दूर हो जाते हैं।
  20. अगर आपके आवाज में एक अलग ही गड़गड़ाहट है या आपकी आवाज साफ नहीं आती है तो जामुन के रस का सेवन करें इससे यह समस्या जल्द ही दूर हो जाती है। jamun ke fayde
  21. दमा, खांसी, गले की बीमारियों में जामुन के फल को खाना या रस को पीना फायदेमंद होता है।
  22. जामुन का शरबत जी मिचलाना, उल्टी आने, बवासीर और खूनी दस्त में काफी राहत पहुंचाता है।

जामुन खाने के नुकसान- jamun ke nuksan

जामुन का फल जहां अनेक फायदे पहुंचाता है वहीं इसके फल को ज्यादा मात्रा में सेवन करने से फेफड़े और पेट को बहुत नुकसान पहुंचता है। यह फेफड़ों में हवा भरता है, बलगम बढ़ाता है और पेट में देरी से पचता है। जामुन के फल ज्यादा मात्रा में खाने से बुखार चढ़ जाता है। इसलिए बुखार से बचने के लिए जामुन के साथ नमक मिलाकर खाएंं।

जामुन खाने के फायदे तथा नुकसान- jamun ke fayde aur nuksan

Gravatar Image
Shiv Kumar is one of the best writer of lyfcure. All articles are cross-checked by Shiv before being public and if any mistakes happen, He works to correct it and then the health related articles are published. The most special thing is that it is an experienced writer who has done M.Sc from zoology. He has received Naturopathy education from Banda.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *