कब्ज का इलाज, दवा और कारण| kabj ka ilaj kare in upay ke sath

Posted on Modified on

kabj ka ilaj

kabj ka ilaj aur gharelu upaay कब्ज तब होता है जब आपके आँतों में मौजूद फिल्टर्ड आहार किसी कारण वश आंत में ही रह जाता है और वह पेट से बाहर जा पाने में सक्षम नही रहता है| constipation home remedy and medicine treatment in hindi.

इस दौरान खाने के पेट में फसे रहने की वजह से कई तरह की गैसे उत्पन्न होती हैं| इन गैसों की वजह से ही आपको कब्ज की समस्या होती है|

पेट में खाना फसे रहने के पीछे कई कारण हो सकते हैं जैसे कि- गलत खान-पान, जंक फ़ूड का सेवन|इस समस्या से बचने के लिए आपको ज्यादा भटकने की जरूरत नहीं है| कब्ज का इलाज करे इन उपाय के साथ| kabj ka ilaj kare in upay ke sath

हम आपको कुछ इलाज से परिचित कराएंगे जिससे आप अपने कब्ज को दूर कर सकेंगे|

आप चाहे तो पोस्ट के अंत में एक विडियो भी लगा है उसे देखकर आप आसानी से समझ सकते हैं|

कब्ज की दवा – constipation medicine in hindi

  1. Bisacodyl tablets for कब्ज की दवा
  2. kabj ki dawa ke lie aciloc tablets.
  3. Colchicine can be used for chromic constipation.
  4. Linaclotide tablets for constipation in hindi

कब्ज होने के कारण:

आयुर्वेद में कहा गया है कि सभी रोगों का एक ही मूल कारण मल का कुपित होना है| कब्ज स्वास्थ्य का सबसे बड़ा शत्रु है| मल के अधिक समय तक शरीर में रहने से जहरीले और अत्यधिक हानिकारक पदार्थ अधिक मात्रा में बनते हैं और अवशोषण प्रक्रिया द्वारा रक्त में वृद्धि और विकास पर प्रतिकूल प्रभाव डालते हैं|

दोषपूर्ण खान पान,अधिक स्वादिष्ट भोजन, कम पानी का सेवन और अप्राकृतिक जीवन कब्ज का मुख्य कारण है| प्रोटीन का अत्यधिक सेवन, हरी सब्जियों और मौसमी फलों का कम उपयोग, पेट में कीड़ों का होना, रात में देर तक जागना, जल्दबाजी में बिना चबाए भोजन करना, मादक द्रव्यों का सेवन आदि बातें ही कब्ज का कारण बनती हैं|

कब्ज का इलाज:

  • जामुन का जूस

कब्ज का इलाज जामुन के जूस के दो गिलास मात्रा को सेवन करने से कब्ज से बचा जा सकता है| जामुन के जूस का इस्तेमाल कब्ज दूर करने के लिए सदियों से किया जा रहा है|

दरअसल जामुन में फाइबर की भरपूर मात्रा होती है जो आपके पेट में गड़बड़ी और पाचनतंत्र को सही करती है|

इसके लिए आप सुबह खाली पेट एक गिलास जूस और रात में सोते वक्त एक गिलास जामुन का जूस पियें|

  • नीबू का घोल

कब्ज सहित अन्य सभी पेट की समस्याओं को दूर करने में नीबू अपना कार्य बेहतर ढंग से करता है|

यह एसिडिक होता है जो कब्ज को आसानी से दूर कर सकता है| इसके लिए आप गुनगुने पानी में एक नीबू निचोड़ लें और घोल को पी लें|

घोल दिन में 3 से 4 बार रोज पिएँ| कुछ दिनों के खुराक में आपको कब्ज से मुक्ति मिल जाएगी|

  • मेथी के पत्ते हैं गुणकारी

कब्ज का इलाज करने के लिए मेथी के पत्तों को काफी गुणवान बताया गया है|

इसके खातिर आप मेथी के पत्तों को दिन में 5 से 6 बार चबाए| आपको फर्क नजर आ जाएगा|

दरअसल, मेथी एंटी-ओक्सिडेंट और एंटी-बैक्टीरियल गुण से भरपूर है जो कब्ज का नाश आसानी से करती है|

  • बेल

बेल के गूझे को पानी में घोटकर शक्कर के साथ एक गिलास घोल को पीने से तुरंत आराम मिलता है|

यह आँतों में उपस्थित हर तरह के मल को आसानी से बाहर निकाल देता है और कब्ज दूर करता है|

  • काला नमक 

काला नमक पीस लें और अजवाइन को भी पीस लें| एक चम्मच आजवाइन में एक चुटकी काला नमक मिलाकर मिश्रण का सेवन करें|

अजवाइन और काला नमक के चूर्ण का सेवन करने के बाद एक गिलास पानी पिएँ|

  • धनियाँ को ले प्रयोग में

रात को जब सोने जाएं तो 10 मिनट पहले 1 चम्मच धनियाँ के पाउडर को फांक लें| इससे कब्ज दूर होता है|

  • इसबगोल की भूसी

कब्ज दूर करने के लिए इसबगोल की भूसी का सेवन कारन आपके लिए हितकारी है| इसके खातिर आप 5 ग्राम भूसी को सोते वक्त दूध के साथ लें|

  • कुछ फल करें ट्राई

देखा जाए तो कब्ज दूर करने में अमरुद और पपीता का इस्तेमाल करना हितकारी होगा|

  • शहद और गरम पानी दूर करते हैं कब्ज

एक गिलास गुनगुने पानी में एक चम्मच शहद मिलाकर घोल को दिन में 4 से 5 बार पिएँ| इससे कब्ज को आसानी से दूर किया जा सकता है|

  • अलसी

कब्ज दूर करने के खातिर अलसी के 1 चम्मच पाउडर को एक गिलास पानी के साथ पिए| बहुत लाभ होगा|

  • मैग्नीशियम साइट्रेट

मैग्नीशियम साइट्रेट को एक गिलास पानी या रस में मिलाएं और इसे पीएं| आपको कुछ घंटों के भीतर कब्ज से राहत मिलेगी।

यदि आपको मैग्नीशियम साइट्रेट नहीं मिल रहा है, तो आप कब्ज का इलाज करने के लिए मैग्नीशिया के दूध का भी उपयोग कर सकते हैं। एक गिलास पानी के साथ दो चम्मच मिलाएं, और बिस्तर पर जाने से पहले इसे पीएं।

मैग्नीशियम डिहाइड्रेशन का कारण बन सकता है। इसलिए इसका उपभोग करने के बाद बहुत सारा पानी पियें| साथ ही इसे इस्तेमाल करने से पहले एक बार डॉक्टर से सलाह लें|

पाचन तंत्र से गुजरते दौरान, ये कंपाउंड आंतों में मौजूद पानी खींच लेते हैं और कब्ज से छुटकारा दिलाते हैं|

  • फाइबर युक्त आहार का सेवन करें

एक दिन में फाइबर से भरे भोजन को कम से कम दो कप खाएं। ब्राउन चावल, जई, ब्रोकोली, खुबानी, सेब, आलू सेम इत्यादि फाइबर से भरे होते हैं|

  • कैस्टर का तेल

रोज सुबह खाली पेट एक चम्मच कैस्टर के तेल को पियें| इससे कब्ज दूर होता है|

यदि आपको कैस्टर आयल को पीना मुश्किल लग रहा है, तो आप इसे नींबू के रस के साथ या एक गिलास गर्म दूध के साथ मिला कर पी सकते हैं।

कास्टर तेल कब्ज के इलाज में अच्छी तरह से काम करता है। जब खाली पेट इसे लिया जाएगा तो यह तेल आपके मल को नरम कर देगा और कुछ घंटों के भीतर आपको कब्ज से मुक्ति दिला सकेगा|

  • हर्बल tea

ग्रीन टी, पिपरमिंट tea और ब्लैक टी कब्ज को दूर करने में सक्षम है|

हर्बल टी लैक्सेटिव हैं जो मल को कोमल बनाकर मल को आसानी से निष्काषित करने में मदद करते हैं| इनका सेवन करने से मल चिकनी हो जाती है और आसानी से बाहर चली जाती है और आपको कब्ज से रात मिल जाती है|

  • जैतून का तेल

रोज सुबह खाली पेट एक चम्मच जैतून का तेल पीने से कब्ज को दूर करने में आसानो होती है|

  • नारियल का तेल

सुबह आधा चम्मच नारियल का तेल पियें और रात में आधे चम्मच दोबारा से पियें| आप इसे अपने भोजन में भी मिक्स कर सकते हैं।

अगर आपको अक्सर कब्ज होता है तो आप इसे अपने नियमित सेवन में जोड़ सकते हैं|

  • बेकिंग सोडा

एक चम्मच बेकिंग सोडा एक गिलास गरम पानी के साथ पियें| बेकिंग सोडा से कब्ज दूर होगा|

  • त्रिफला चूर्ण

त्रिफला के एक चम्मच चूर्ण को एक गिलास पानी में मिलाकर सुबह शाम पीने से कब्ज दूर होता है|

इसे भी देखें- 

योग से करें कब्ज का इलाज:

योग का प्रभाव शरीर और मन दोनों पर पड़ता है| योगाभ्यास से शरीर की आंतरिक क्रियाओं और अंगों पर विशेष लाभदायक प्रभाव पड़ता है|  जिससे शरीर का हर अंग संतुलित होकर सुचारु रुप से कार्य करने लगता है| योग से किसी भी रोग का निदान संभव है| योग एक निरापद और पूर्ण रुप से वैज्ञानिक चिकित्सा पद्धति है नियमित रूप से योगाभ्यास करने वालों को जीवन पर्यंत कब्ज नहीं होता है|

इसके अतिरिक्त कब्ज पीड़ित रोगी के लिए यह क्रियाएं भी काफी उपयोगी हैं– सुबह बिस्तर से उठते ही खूब पानी पिएं, इसके बाद ताड़ासन भुजंगासन और शंखासन कीजिए| इससे पुराना कब्ज भी ठीक हो जाता है| इस योगाभ्यास से पाचन संस्थान पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है साथ ही आँते मैटेरियल्स को बाहर निकालने की प्रक्रिया में जुट जाती हैं| योग कब्ज का प्राथमिक और मुख्य उपचार है|

इससे आँते सबल होती हैं उनकी भोजन को हजम करने और मल बनाकर बाहर निकालने की प्रक्रिया में वृद्धि हो जाती है और वे सुचारू ढंग से कार्य करने लगती हैं| 

लेकिन योगाभ्यास करने से पूर्व कुछ खास बातों का ध्यान रखना भी जरूरी होता है अन्यथा लाभ के बदले नुकसान हो सकता है| योगाभ्यास हमेशा किसी योग विशेषज्ञ की देख रेख में ही करना चाहिए और यह भी ध्यान रखें कि विशेषज्ञ अनाड़ी ना हो|

उपरोक्त आसनों में जो आपके लिए आरामदायक और सुविधाजनक हो उसे ही करें और अपनी शारीरिक क्षमता से अधिक कोई भी आसन ना करें ऐसा करना आपके स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकता है|

video dekhe

kabj ka ilaj कब्ज को कंट्रोल करने कि कुछ टिप्स:

  • अगर आप एक पर्यटक हैं और अक्सर यात्रा करते हैनं तो आपके खाने का टाइम फिक्स होना चहिये|
  • कब्ज की समस्या मल को ज्यादा देर तक रोकने से हो सकती है, इसलिए लेटरिन आने पर तुरंत जाएं|
  • जई, भूरे रंग के चावल, हरी सब्जियां और ब्रोकोली, मीठे आलू, सेम, सेब, आड़ू, नाशपाती, और जामुन जैसे फाइबर में समृद्ध फल खाएं|
  • दूध और पनीर जैसे डेयरी उत्पादों को खाने से बचना चाहिए| इसके अलावा, कब्ज से राहत पाने के लिए लाल मांस, पैक किए गए या कई दिनों से रखे हुए भोजन, तला हुआ भोजन और केले से बचें।

कब्ज का इलाज करने से पहले कारण जाने और कारण से बचें

कब्ज होने के कारण:

  • खाने में रफेज(चोकर) को शामिल न करना

जब तक आप खाने में रफेज को शामिल नहीं करते तब तक कब्ज का इलाज नहीं किया जा सकता है|

लोग अक्सर आटे से चोकर को निकल देते हैं| जबकि ये चोकर फाइबर से भरे होते हैं|

पेट को फाइबर भरपूर मात्रा में नहीं मिल पाता है और पाचनतंत्र पर असर होता है जिससे कब्ज हो सकता है|

  • तरल पदार्थ का कम सेवन

फाइबर को काम करने के लिए तरल पदार्थ की जरूरत होती है| इसलिए, यदि आपके पास उच्च फाइबर आहार है तो आपको बहुत सारा पानी पीना होगा।

पानी न पीने की वजह से फाइबर सही कार्य नहीं कर पाता है और कब्ज की समस्या होती है|

इसके खातिर आप रोजाना कम से कम दो लीटर पानी पीएं। ‘कब्ज का इलाज करे इन उपाय के साथ| kabj ka ilaj kare in upay ke sath’

  • दवाइयां

स्वास्थ्य समस्याओं के इलाज के लिए ली गई कई दवाओं में उनके दुष्प्रभावों से कब्ज हो सकता है।

एंटीहिस्टामाइन्स, एंटीड्रिप्रेसेंट्स, दर्द दवा (कोडेन), एंटासिड्स, और आयरन की खुराक कब्ज का कारण बनती है।

  • प्रेगनेंसी

गर्भावस्था के दौरान, प्रोजेस्टेरोन (22) के में सीक्रेट होंने के कारण भोजन को आँतों तक पहुँचाने वाली मांसपेशी संकुचित हो जाती है|

इस वजह से भोजन सही समय पर बाहर नहीं निकल पाता है और कब्ज हो जाता है|

kabj ka ilaj कब्ज के लक्षण और लक्षण:

  • पेट में गैस|
  • सूजन|
  • पेट भरा महसूस होना|
  • निचले हिस्से पेट में दर्द|
  • निचले हिस्से में ऐंठन|
  • सर दर्द|

kabj ka ilaj  कब्ज के साइड इफेक्ट्स:

  • कम्फर्ट महसूस न करना|
  • पेट फूल जाना|
  • पेट में दर्द|
  • सूजन|
  • उल्टी होना|
  • सर में दर्द|
  • पीठ दर्द (पूरी तरह से या सिर्फ एक तरफ, विशेष रूप से गर्भावस्था के दौरान)
  • छाती में दर्द|
  • पैरों में दर्द| “कब्ज का इलाज करे इन उपाय के साथ| kabj ka ilaj kare in upay ke sath”

ऊपर बताए गए सभी उपचार पूर्ण तरह से सुरक्षित हैं और इनके कोई साइड-इफ़ेक्ट नहीं हैं|

ऊपर दिए गए जिन उपाय को इतेमाल करने में डॉक्टर से परामर्श की सलाह दी गई है उसमे डॉक्टर से सलाह जरूर करें|

  आपने पढ़ा-  कब्ज का इलाज

kabj ka ilaj, kabj se bachne ka upay, qabj ke upay, kabj se chutkara kaise pae, kabj ka gharelu ilaj,

kabj ka gharelu upay, kabj se kaise bache, kabj se chutkara kaise pae

नीचे दिए गए लेख भी पढ़ें

हाई ब्लड प्रेशर का इलाज के 20 घरेलू उपाय-High bloo...   high blood pressure ka ilaj kaise karne ki tips जब आपका ह्रदय अधिक कार्य के लिए फोर्स किया जाता है तब उच्च रक्तचाप की समस्या होती है| यह किसी ...
घुटनों का दर्द के 22 आसान इलाज- ghutno ke dard ka... जैसे-जैसे उम्र बढती जाती है, महिला हो या पुरुष दोनों के हे जोड़ों और घुटनों का दर्द शुरू हो जाता है| यह दर्द बहुत भयानक होता है जिससे पीड़ा सहन करना प...
पसीने और शरीर की बदबू दूर करने के बेहतर उपाय | pas... बदबू का कारण, पसीने की बदबू का घरेलु इलाज, पसीना और बदबू कम करने के लिए खाद्य पदार्थ, बदबू के लिए परफ्यूम के बारे में बताया गया है | ये सभी टॉपिक आपको...
काली खाँसी का 20 घरेलू इलाज व उपाय, दवाईयाँ, प्रका... कुक्कुर खांसी को काली खांसी अथवा अंग्रेजी में हूपिंग कफ (whooping cough) कहा जाता है | यह सामान्य खांसी से भिन्न होती है | यह खांसी अधिकतर 10 वर्ष की ...
सर्दी के चलते नाक में जलन क इलाज| nak me jalan ka ... सर्दी के समय सर्दी से होने वाले नाक में जलन पूरा चैन ले लेती है| यह कई कारणों से हो सकती है| अक्सर सर्दियों में नाक को बार-बार साफ़ करने से जलन उत्प...
सिर दर्द का इलाज,50 उपाय,दवाइयाँ,योगासन सावधानियाँ...   सिर दर्द का इलाज  'or' sar dard ka ilaj सिर में कांटे जैसी चुभन को शिरोरोग कहते हैं अथवा सिरदर्द कहा जाता है चलिए इसके सावधानी, दवाइयाँ औ...
दस्त का इलाज आसान घरेलू देशी उपचार | to stop loose... loose motion home remedy in hindi गरिष्ठ, चिकने, सूखे, मसाले वाले, ठंडे पदार्थों के खाने पीने, मद्यपान, स्वभाव एवं धात की विपरीत आहार को ग्रहण करने एव...
sir me bharipan kaise door kare| सिर में भारीपन का... गलत तरीके से lifestyle का माहौल बनाने से सिर में भारीपन की समस्या हो जाती है| और भी कई कारण है जो sir me bharipan की वजह बनते हैं| तो चलिए उन कारणों औ...
height badhane ki 17 exercise – लम्बाई बढ़ाने... updated on 12/09/2018 @ 8:33 pm इसमें कोई संदेह नहीं है कि किसी के personality को Increase करने के लिए height कि बहुत आवश्यकता होती है|हर कोई एक बेहत...
lambai kaise badhaye | लम्बाई कैसे बढाएं | हाइट बढ़... lambai kaise badhaye छोटे काठी के लोग सोचते हैं कि लम्बे कब होगे| personality के लिए लम्बाई आवश्यक होती है| height badhane ke upay लम्बाई के बिना अच्...
माइग्रेन का इलाज, लक्षण,दवा | आधे सिर दर्द का इलाज...   माइग्रेन क्या है?- migraine in hindi माइग्रेन को आधे सिर दर्द के नाम से भी जाना जाता है| इसमें आपके सिर के आधे हिस्से में दर्द होता है, च...
चुन्ना का इलाज, घरेलू उपचार कारण और लक्षण| chunna ... पेट के कीड़े बहुत से बच्चों के मल (टट्टी) के साथ छोटे-छोटे सफेद कीड़े निकलते हैं इसे चुन्ना कहते हैं।  इसकी लंबाई चौथाई से लेकर आधे इंच तक होती है। जब ...

2 thoughts on “कब्ज का इलाज, दवा और कारण| kabj ka ilaj kare in upay ke sath

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *