कम सोने के नुकसान – side effects of lack of sleep in hindi

कम सोने के नुकसान – नींद हम सभी के लिए बहुत ही जरूरी है। रात में अच्छी और गहरी नींद ले लेने पर सुबह हमारी शुरुआत ताजगी भरी होती है। नींद पूरी हो जाने से शरीर में दिन भर ताजगी बनी रहती है। नींद की यही खासियत है कि यह हमें फिर से रिफ्रेश कर देती है। नींद पूरी होने के बाद कमरे मस्तिष्क में जमा सारा कूड़ा-करकट साफ हो जता है और सिर्फ वही चीज बचती है जो हमारे लिए जरूरी होती है। इसलिए आपको हमेशा यह कोशिश करें कि आप अच्छी तरह से sleep कर सके, या फिर आपको sleep help मिल सके। अधूरी नींद उन लोगों में पाई जाती है जिनमें काम का अत्यधिक दबाव रहता है। ये लोग चाहे पूरे स्वस्थ ही दिखते हो लेकिन यह सेहत के लिए ठीक नहीं है। गहरी नींद न आने से कई समस्याएँ पैदा हो जाती है 

शरीर में थकान और सिर में दर्द (headache)होना

नींद पूरी न होने के कारण शरीर की थकान (stress) पूरी तरह से नहीं मिटती और सिर में हल्का दर्द (headache) हमेशा बना रहता है। और मन स्थिर नहीं रह पाता है। और शारीरिक और मानसिक रूप से ताजगी भी गायब हो जाती है इसलिए आप एक अच्छे नींद के हकदार बने और insomnia जैसी खतरनाक  sleeping disease से बचे।  इसके खातिर आप किसी sleeping medicines का इस्तेमाल न करें। किसी भी sleeping disease को आयुर्वेदिक तरीके से ही सही करने की कोशिश करें।

भूलने अर्थात याद करने में दिक्कत

जो व्यक्ति गहरी नींद नहीं ले पाते उनकी याद करने की शक्ति कमजोर पड़नी लगती है, और उन्हें भूलने जैसी बीमारियों का सामना करना पड़ता है, देखा जाए तो हमें 7 से 9 घंटे तक सोना चाहिए और इससे ज्यादा देर तक सोने से भी बहुत सी बीमारियों को झेलना पड़ता है। इसलिए आपको चाहना चाहिए कि आप किसी भी प्रकार की sleeping disease से न घिरे साथ ही sleeping medicines का इस्तेमाल न करें। अगर आपको सोने में काफी तकलीफ हो रही है तो आपको insomnia की समस्या हो सकती है।

पढ़ें – neend aane ki dawa 

कही भी नींद लेने लगना

अगर आप भी अच्छी तरह से नींद नहीं ले पाते तो जाहिर सी बात है आपकी शरीर में सुस्ती बनी रहती है और कोई काम करने में मन नहीं लग पाता इस कारण लोगों को कभी भी और कही भी समय मिलता है तो सोने लगते हैं।

मन एकाग्र करने में असहजता महसूस होना

यदि आपको भी एकाग्र करने में दिक्कत महसूस होती है तो आप भी समझ जाइये की आप अच्छी तरह नींद नहीं ले पा रहे है, इसका एक कारण शांति न रहना और थकान भी है, जिसका परिणाम आधी अधूरी नींद है।

लड़ाई भी हो सकती है

नींद पूरी न होने के कारण मन शांत नहीं रहता और छोटी-छोटी बातों से लड़ाई होने लगती है जो व्यक्ति अच्छी तरह नींद नहीं ले पाते वे बातों को अच्छे से नहीं समझ पाते और यही बात झगड़ो का कारण बनता है।

ध्यान न लगा पाना

नींद पूरी न हो पाने पर व्यक्ति कोई भी कार्य  ध्यानपूर्वक नहीं कर पाता है और अपने सामान्य कार्य भी कर पाने में असमर्थ हो जाता है। और छोटे से छोटे कार्य कर पाने में भी सक्रियता में कमी आ जाती है।  

 अपनी बात को दूसरों के सामने न रख पाना

जिनकी नींद प्रायः पूरी नहीं हो पाती है वे लोग अपनी बातों को लगातार नहीं कह पाते है और अक्सर अस्पष्ट भाषा में बोलते है। ये लोग अपने-आप को पूर्ण रूप से अभिव्यक्त नहीं कर पाते है और परेशान रहते है।

शरीर में हमेशा सुस्ती का बना रहना  

पूरी नींद न ले पाने के कारण लोग पूरे दिन जम्भाई लेते हुए नजर आते है। और पूरे शरीर में हमेशा सुस्ती बनी रहती है। ऐसा मालुम होता है, कि ये लोग जैसे की ताजगी के बिना ही जीवन जीने के लिए पैदा हुए हो। ये लोग जब भी मौका पाते है, सोने लग जाते है।

जगह पहचान पाने में दिक्कत महसूस करना

कही जाते समय यदि ऐसे जगह पर पहुंच जाए जहाँ पर ज्यादा ही मोड़ या गलियां हो तो कम सोने वाले लोग अक्सर उन गलियों और मोड़ की जगह को भूल जाते है और ये लोग रास्ते से भटक कर दूसरी जगह पहुँच जाते है। यदि इस प्रकार की समस्या पैदा हो तो समझना चाहिए, कि नींद पूरी तरह से नहीं ली जा रही है।

अपने सामान को कही भी रख कर भूल जाना

अक्सर लोग अपनी वस्तुओं को कही भी रख छोड़ते है, और भूल जाते है उन्हें यह नहीं याद रहता की अभी-अभी कहाँ पर काम कर रहे थे और किस जगह पर हमने अमुक वस्तु को छोड़ दिया है। और इस बार-बार भूलने का एक कारण नींद का पूरी न हो पाना है।

Default image
Lyfcure
We share all the health-related information with everyone on our site. Lyfcure specifically shares important information related to pregnancy, periods and home remedies. Keeping special care of everyone’s life, we deliver information to you, which is absolutely accurate.

Leave a Reply