kamar dard ka ilaj back pain suffering person

5 मिनट में 100% कमर दर्द का इलाज, बाबा रामदेव के नुस्खे

Posted on

अगर आप हमसे फेसबुक में बात कर के सीधा जवाब पाना चाहते हैं तो नीचे दी गई contact us बटन पर क्लिक करें!

भाग-दौड़ से भरे इस जीवन में छोटी सी की गई गलती कमर दर्द का कारण बन सकती है। गलत तरीके से सोना, या उठाना-बैठना, शक्ति से अधिक कार्य करना और कई तरह के कारण कमर दर्द हो सकता है।इसकी समस्या ज्यादातर महिलाओं में देखी जाती है। कब्ज भी कमर के दर्द का एक कारण हो सकता है। चलिए आज पीठ और कमर दर्द से निजात पाने का आयुर्वेदिक और घरेलू इलाज जानते हैं।

कमर दर्द का आयुर्वेदिक और घरेलू इलाज

यहाँ पर आपको हम कमर दर्द के ऐसे नुस्खे बताएँगे जो आसानी से आपको आपके घर में मिल जाएंगे और आसानी से आप उनका कमर दर्द का उपाय करने के लिए कर सकते हैं। तो चलिए जानते हैं कुछ घरेलू और आयुर्वेदिक नुस्खे के बारे में।

अदरक का करें इस्तेमाल

सूजन की वजह से हो रहे कमर के पीड़ा में अदरक का इस्तेमाल किया जा सकता है। अदरक का इस्तेमाल हम कमर दर्द दूर करने के लिए तीन तरीकों से कर सकते हैं।

  1. अदरक को पीस कर दर्द दे रहे भाग पर लेप करें और सूख जाने के बाद उसे धो दें।
  2. अदरक के टुकड़ों को पानी में गर्म करें और ठंडा हो जाने पर उस पानी को पी लें। ऐसा दिन में तीन समय रोजाना करें।
  3. उबलता पानी में आधा चम्मच काली मिर्च, आधा चम्मच लौंग और एक चम्मच पीसा हुआ अदरक डालें। घुल जाने पर इसे आँच से उतार लें और ठंडा हो जाने पर छान कर पी लें। इसेअदरक की हर्बल चाय के रूप से भी जाना जाता है।

तुलसी का करें इस्तेमाल

तुलसी में कई दर्दनिवारक गुण मौजूद होते हैं जो आपके कमर के दर्द को आसानी से दूर करने की क्षमता रखते हैं। लेकिन, कमर के दर्द के लिए आपको इसे इस्तेमाल करने के सही तरीके के बारे में भी पता होना बहुत जरूरी है।

एक कप पानी में पंद्रह से बीस तुलसी की पत्तियां तोड़ कर उबालें और पानी आधा रह जाने पर आँच से उतार लें। ठंडा हो जाने पर थोड़ा सा काला नमक मिलाएं और पी जाएँ।

हर्बल तेल

दर्द का कोई भी कारण हो हर्बल तेल से मसाज करने पर कमर दर्द से राहत मिलती है। हर्बल तेल में जैतून का तेल, नीलगिरी का तेल, बादाम का तेल, नीम का तेल आदि प्रयोग में लाना चाहिए। तेल को गुनगुना कर मसाज करने से और अधिक लाभ मिलता है।

खसखस के बीजों का करे प्रयोग

खसखस के बीज कमर दर्द में अत्यंत ही गुणकारी और हितकारी साबित होते हैं। इसे प्रयोग में लाने के लिए एक कप खसखस के बीज के साथ तिहाई मिश्री को पीस लें। इस चूर्ण को खाली पेट या खाना खाने के बाद दूध या पानी के साथ लें। दूध के साथ लेने से और अधिक फायदे प्राप्त होते हैं।

लहसुन है लाभदायक

कमर दर्द दूर करने में लहसुन का इस्तेमाल में करने के दो तरीके हैं।

  1. रोज सुबह उठने के बाद, खाली पेट करने के बाद, तीन-तीन लहसुन भुने और उसे खा लें। अगर इससे अधिक मात्रा में लहसुन का सेवन करते है तो आपको दस्त भी हो सकता है, इसलिए सिर्फ तीन लहसुन ही खाएंँ।
  2. नारियल के तेल के साथ सरसों का तेल और तिल के तेल को बराबर-बराबर मात्रा में ले लें। अब इस तेल में लहसुन की कलियों को डालकर आग में गर्म करें। जब तेल खूब गर्म हो जाए तो इसे आँच से उतार लें और गुनगुना होने का इंतजार करें। गुनगुना होने पर कमर के दर्द वाले हिस्से पर लगाकर मालिश करें।

गेंहू का करें प्रयोग

गेंहू में सूजन को कम करने के तत्व होते हैं जो कमर और पीठ के दर्द से राहत दिला सकते हैं। इसे उपयोग करने के लिए आप दो मुट्ठी गेंहू रात में सोने से पहले पानी में भीगा दें और सुबह हो जाने पर इसे निकाल लें और पीस लें। अब इसमें खसखस का पाउडर और पिसी हुई कुछ सूखी धनिया मिलाएं। इस मिश्रण को अब दूध में डालकर पकाएं। जब दूध गर्म और गाढ़ा हो जाये तब इसे आग से निकाल लें और ठंडा हो जाने पर सेवन करें।

बर्फ है फायदेमंद

बर्फ के गोले से भी कमर दर्द से छुटकारा पाया जा सकता है।बर्फ के टुकड़ों को छोटा-छोटा काट लें और पन्नी में भर दें। पन्नी के ऊपर सूती कपडे डाल दें और इसे अपने शरीर के दर्द दे रहे भाग पर दस मिनट तक लगाकर रखें। आप बर्फ की जगह किसी गर्म चीज का इस्तेमाल भी कर सकते हैं।

सेंधा नमक भी है लाजवाब

सेंधा नमक kamar dard ka ilaj के लिए प्रयोग में लाया जाता है। इसमें सूजन विरोधी भी गुण मौजूद होते हैं, जो दर्द के साथ साथ सूजन भी कम करते हैं। गर्म पानी में सेंधा नमक डाल दें। पेस्ट पतला नही होना चाहिए। सेंधा नमक की इतनी मात्रा को प्रयोग करें जिससे पेस्ट गाढ़ा हो सके। अब छोटे से सूती कपड़े को इस पेस्ट में भिगोकर निचोड़ लें और दर्द से प्रभावित छेत्र में ठंडा पड़ जाने तक लगाएं। ऐसा करने से सेंधा नमक दर्द को खींच लेगा।

पीठ और कमर दर्द के लिए है दूध फायदेमंद

कमर या पीठ दर्द का कारण हड्डियों का कमजोर होना भी हो सकता है। यह कैल्शियम की कमी के कारण होता है और दूध में भरपूर कैल्शियम पाया जाता है जो हड्डी को लोहे की तरह बनाता है। कमर या पीठ दर्द को दूर करने के लिए दूध का इस्तेमाल आप तीन तरीकों से कर सकते हैं।

  1. खाली गुनगुने दूध का सेवन।
  2. दूध में शहद मिलाकर सेवन करें।
  3. गर्म दूध में खसखस और चीनी बराबर मात्रा में मिलाकर, दिन में दो से तीन बार अवश्य पिएँ।

कैमोमाइल फूल

कैमोमाइल के फूल से आप कमर दर्द का इलाज करने की चाय बना सकते हैं। इस चाय को बनाने के लिए एक कप पानी में एक चम्मच कैमोमाइल फूल को मिलाएं और पांच मिनट तक तेज आँच में गर्म ज्कारें। गुनगुना हो जाने पर इस चाय को पिएँ।

एलोवेरा के लड्डू

एलोवेरा के लड्डू से कमर दर्द का इलाज बहुत अच्छी तरीके से होता है सबसे पहले एलोवेरा के छिलके को निकाल दें और अन्दर के जेल को निकाकर आटे के साथ मिला दें। अब इनके लड्डू बना लें और गाय के शुद्ध घी में इसे पकाएं। अब आपका लड्डू पूरी तरह से तैयार है। सुबह-शाम रोजाना दो-दो लड्डू सेवन करें।

नीम के पत्ते

नीम को दर्द निवारक के रूप में भी जाना जाता है। नीम के पत्तों का रस निकाल लें और इसे गर्म करें। जब यह गर्म हो जाए तो दर्द से प्रभावित जगह में लगाकर मालिश करें। इससे दर्द दूर हो जाता है। पीठ या कमर के अलावा भी किसी जगह सूजन है तो आप kamar dard ke gharelu nuskhe का प्रयोग करें।

सेंधा नमक से नहाएं और करें

सेंधा नमक से नहाकर आप चुटकियों में ही अपने kamar dard ka ilaj कर सकते हैं। आपको इसके लिए बाथ टब और ढेर सारा सेंधा नमक की आवश्यकता होगी। ध्यान रहे अगर आपका पानी न तो ज्यादा गर्म होना चाहिए न हो ठंडा। अगर गर्म रहेगा तो सूजन आ सकता है और अगर ठंडा हुआ तो आपके मांसपेशियों के अकड़ जाने की समस्या हो सकती है।

एक्सपर्ट्स के मुताबिक 92 और 100 ° F (33 और 38 ° C) के बीच तापमान होना चाहिए।104 ° F (40 ° C) से अधिक तापमान की सिफारिश नहीं की जाती है, खासकर अगर आपको दिल की समस्या है।

जैसे ही आप इस घोल में लेटेंगे आपका कमर का इलाज हो जाएगा और दर्द गायब। अगर आप एक रबर बाल का प्रयोग करते हैं तो यह आपके लिए और भी उत्तम होगा।

म्यूजिक थेरेपी

कई शोध में यह पाया गया है की आपके कमर दर्द की असली वजह आपका डिप्रेशन भी हो सकता है और ऐसे में आपके लिए म्यूजिक थेरेपी काम आने वाली है। यह एक ऐसी थेरेपी हियो जिसमे आप म्यूजिक सुनते हैं और आपका कमर दर्द अपने आप गायब होने लगता है। इसके लिए आप अपने पसंदीदा म्यूजिक का चुनाव कर सकते हैं और उसे सुनकर दर्द से राहत पा सकते हैं। अगर आप चाहे तो आपको पसंद आने वाले गानों का भी प्रयोग कर सकते हैं।

विटामिन डी से भरे उत्पाद का सेवन करें

आपके कमर के दर्द की वजह आपकी कमर की हड्डियों का कमजोर होना भी हो सकता है, और ऐसे में आपको आपकी हड्डीयों को मजबूत बनाना चाहिए। आप उन सभी खाद्य पदार्थों का सेवन करेण जिनमे विटामिन डी की भरपूर मात्रा पाई जाती है। इसके अलावा सूर्य विटामिन डी का सबसे बड़ा स्त्रोत है, आपको सूर्य से विटामिन पाने के लिए सन बाथ करना चाहिए।

सन बाथ करने के लिए आप रोज धूप में कम से कम 20 मिनट बिताएँ। गर्मियों में आप सन बाथ सुबह सात बजे से सात बीस तक करें।

कमर दर्द पर आपको डॉक्टर से कब बात करनी चाहिए

कुछ लक्षण हैं जिसके बाद आपको डॉक्टर से बात करनी चाहिए।

  1. अगर कमर में दर्द छह सप्ताह से अधिक समय तक रहता है।
  2. दर्द अगर ज्यादा बदतर हो जाता है, यहां तक कि घरेलू उपचार के बाद भी आराम नहीं मिलता।
  3. अगर आपको रात में नींद नहीं आती है और हमेशा चुभन बनी रहती हो\
  4. कमर के दर्द की वजह से पेट में ज्यादा दर्द शुरू हो जाने पर भी डॉक्टर के पास जाना जरूरी है।
  5. दर्द के साथ कमजोरी, झुनझुनी, या हाथ या पैर में सुन्नता।

जब आपका पीठ दर्द आपके दैनिक जीवन में हस्तक्षेप करना शुरू करता है, तो अपने डॉक्टर से बात करना महत्वपूर्ण है।

कमर दर्द के दौरान रखें ये सावधानियाँ

  1. अपने पर्स, सूटकेस, या बैग में बहुत अधिक भार न रखें।
  2. हमेशा एक ही पट्टा के बजाय, अपना बैकपैक दोनों कंधे पर पहनें।
  3. जब आप वस्तुओं को उठा रहे हों तो हमेशा अपने घुटनों पर जोर दें।

कमर दर्द से जुड़े किसी भी तरह के सलाह को आप हमसे नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स की मदद से पूछ सकते हैं, और हमें यह जरूर बताएं की आपको यह लेख कैसा लगा साथ ही आप इसे दूसरों तक भी शेयर करें।

Gravatar Image
Sarthak Upadhyay is a health blogger and creative writer, who loves to explore various facts, ideas, and aspects of life and pen them down. The whole site is managed by him. Writing is his passion and enjoys writing on a vast variety of subjects. Periods, pregnancy, and Home-remedies are his specialty areas.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *