माइग्रेन का इलाज, लक्षण,दवा । आधे सिर दर्द का इलाज । migraine ka ilaj in hindi

Posted on

अगर आप हमसे फेसबुक में बात कर के सीधा जवाब पाना चाहते हैं तो नीचे दी गई contact us बटन पर क्लिक करें!

 

माइग्रेन क्या है?– migraine in hindi

माइग्रेन को आधे सिर दर्द के नाम से भी जाना जाता है। इसमें आपके सिर के आधे हिस्से में दर्द होता है, चुनचुनाहट या चुभन होती है। रोगियों को बचपन में आधे सिर का दर्द शुरू होता है और वर्षों  में  बुढ़ापे में जाकर आराम मिलता है। स्त्रियों को पुरुषों के मुकाबले यह रोग ज्यादा होता है।माइग्रेन का इलाज, लक्षण,दवा । आधे सिर दर्द का इलाज । migraine ka ilaj in hindi

यह भी जाने: सिर का दर्द का इलाज

यह भी जाने- सिर दर्द के कारण

(Migraine ke karan) कारण:

अधिक भोजन खा लेना।

कब्ज रहने से migraine होने लागत है।

बासी भोजन के सेवन से।

माइग्रेन के लक्षण: (migraine ke lakshan)

migraine का इलाज जानने से पहले यह सुनिश्चत करना जरूरी है कि क्या आपको सही में माइग्रेन हो रहा है। इसलिए कुछ लक्षणों को जानते हैं

migraine सिर के सिर्फ आधे हिस्से में ही होता है।

कई लोगों को आधे सिर का दर्द सुबह होने से लेकर शाम तक होता है।

दिन में migraine होने पर रोगी को पहले सुस्ती, weakness, चक्कर आना, तुतलाने लग जाना, दृष्टि में धुंधलापन, आँख कि पुतली मुड़ना के साथ आधे हिस्से में सिर दर्द होता है।

रोगियों को migraine शुरू होने से पहले उनके कई body parts सुस्त हो जाते हैं। ऐसा लगता है कि body में ठन्डे कीड़े चल रहे हों।

आधे सिर का दर्द रोज कनपटी पर एक point से start होता है और धीरे-धीरे यह दर्द आँख तक पहुँचता है,माथे को दर्द जकड़ लेता है और यह दर्द कंधे और गर्दन में होने लगता है।

लाइट में दर्द और तेज हो जाता है।

कई साथ कई वस्तुएँ दिखाई देती हैं।

सूरज के चढ़ते ही headache होने लगता है।

टेंशन होना भी आधे सिर दर्द का कारण हो जाता है।

आधे सिर का दर्द (माइग्रेन) शुरू होने पर आरम्भ में सिर की धमनी ढीले हो जाती है और उस और रक्त बहुत ज्यादा इकठ्ठा हो जाता है। रोगी का चेहरा पीला पड़ जाता हा और कनपटी की धमनी जोर से तड़पती हुई दिखाई देती है।

रक्त में विषैले पदार्थ आ जाने के कारान आधासीसी दर्द में आपके मूत्रान्गों पर भी कुछ खराबी नजर आने लगती है।

इर के जिस हिस्से में दर्द होता है ऐसा लगता है कि कोई हथोड़े से पीट रहा है।

 

घरेलू इलाज फॉर माइग्रेन (Migraine home remedies in hindi)

 

Basil leaves (तुलसी की पत्तियाँ)

ढेर साडी तुलसी की पत्तियों को इकठ्ठा कर लें और इसका चूर्ण बनाकर रोगी को शहद के साथ दिन में तीन बार चटाएं। इससे राहत होगी।

सोंठ dry ginger

सोंठ की 10 ग्राम की मात्रा में 1 गिलास दूध मिआक्र पीसे से माइग्रेन में राहत मिलती है।

लहसुन का स्वरस

माइग्रेन के दौरान चक्कर आना, धुंधली दृष्टि दिखाई देना में लहसुन का स्वरस फायदेमंद होता है। इसकी तीव्र गंध और इसमें मौजूद केमिकल की वजह से सिर में चुभन भी कम हो जाती है।

इस तरह से करें इस्तेमाल

लहसुन को अच्छी तरह से कूटकर उसका रस निकाल लें और उस रस में पीसी हुई अजवाइन मिलाकर migraine रोगी के नाक में 3 से 4 बूँदें टपकाएं।

गाय का शुद्ध घी

migraine का इलाज के लिए इस प्रयोग को अपनाने से पहले यह तय कर लें सिर्फ गाय का घे होना चाहिए और यह शुद्ध होना चाहिए।

घी को प्रयोग में लाने के लिए आप उसे हल्का गर्म कर लें। जब घी ठंडा हो जाए तो माइग्रेन पीड़ित के नाक में 5 बूँदें टपकाएं।

कली मिर्च के साथ देशी घी का इस्तेमाल फॉर migraine ilaj in hindi

  1. काली मिर्च का पाउडर बनाकर 5 gram मिर्च को शहद के साथ चाटें।
  2. काली मिर्च की 12 ग्राम मात्रा तय कर लें। कालीमिर्च को चबाकर खाएंं और इसके बाद लगभग गाय की 30 gram घी का सेवन करें।

घी

आधे सिर दर्द का इलाज के लिए घी को गर्म कर लें और उसे सूंघें।

पीपर

काले रंग की पीपल को तवे में भूनकर उसका चूर्ण बना लें और उसका सेवन शहद के साथ करें। migraine का उपचार होता है।

तेल से मसाज करें

किसी भे तेल को गर्म कर के खोपड़ी में लगाकर मसाज करने से माइग्रेन का इलाज संभव है।

कैफीन

यह कॉफी और कुछ अन्य खाद्य पदार्थों और पेय पदार्थों में पाया जाने वाला एक तत्व है, और यह आपको आधे सिर दर्द की पीड़ा से राहत दे सकता है। यह आपके शरीर को कुछ माइग्रेन दवाओं को तेजी से अवशोषित करने में मदद कर सकता है। इसके अलावा भी कैफीन सिर की नशों को खोलने में और माइग्रेन से छुटकारा दिलाने में भी मदद करता है।  ‘माइग्रेन का इलाज, लक्षण,दवा । आधे सिर दर्द का इलाज । migraine ka ilaj in hindi’ लेकिन इसका सेवन दिन में दो बार ही करें।

इसे उपयोग में लाने के लिए कॉफ़ी और चाय का इस्तेमाल करें।

मैगनीशियम को उपयोग में लें

आप इस खनिज को हरे सब्जियों, अनाज और nuts में पा सकते हैं। जब आपको माइग्रेन आ रहा है, तब यह आपकी सहायता नहीं करेगा, लेकिन कुछ अध्ययनों से पता चलता है कि यह माइग्रेन को रोक सकता है। आप मैग्नीशियम की गोली भी ले सकते हैं, लेकिन खुराक लेने से पहले हमेशा अपने चिकित्सक से संपर्क करें।

पेपरमिंट का तेल

2010 के अध्ययन में सामने आई बातों के मुताबिक़ पेपरमिंट माइग्रेन से राहत दिलाने में मदद कर सकता है। इसमें पाया जाने वाला मेथनॉल तत्व आपके आधे सिर दर्द को चुटकियों में गायब कर देता है। migraine के उपचार के लिए इसके तेल को मथे में लगाएं।

अदरक

जब भी दर्द हो तो अदरक के जूस को पीने से आराम मिलता है।

नींबू का रस

नींबू के रस को माथे में लगाने से भी migraine का इलाज हो जाता है।

गोभी

पत्तागोभी की अन्दर की पत्तियों को पीस लें उसमे थोडा सा नींबू का रस मिला लें और नींबू का छिलका पीस लें।  इस पेस्ट को अपने माथे में लगाएँ। migraine का इलाज संभव है।

जल चिकित्सा से करें माइग्रेन का इलाज इन हिंदी

जल चिकित्सा migraine को दूर करने के लिए कारगर होता है। इसके लिए आप अपने माथे पर कपडे को गीला कर के एक परत लगाएँ। migraine जल चिकित्सा के जरिये माइग्रेन का इलाज संभव है।

 

 

अंग्रेजी दवाई – एलोपैथिक इलाज से करें migraine गायब allopathic treatment for migraine in Hindi

नोट- एलोपैथिक दवाइयों का इस्तेमाल करने से पहले आप डॉक्टर की सलाह लें

cafergot (contains ergotamine)

आजकल के एलोपैथिक डॉक्टर migraine का इलाज ergotamine से करते हैं। यह औषधि दिमाग की रक्त वाहनियों में शक्ति पैदा करके आधे सिर के दर्द को तुरंत खत्म कर देती हैं।  आधे सिर का दर्द (migraine) के शुरू हो जाने के बाद इसका कोई असर नहीं होता है। किसी भी केमिस्ट से cafergot को मांग सकते हैं।

 सावधानी: इस तत्व को गर्भवती महिलाओं को न दें।

Nevrovitamin tablets

मैथुन इच्छा की पूर्ती न होने के कारन आधे सिर दर्द, मानसिक तनाव के कारण होने वाला migraine, पाचनक्रिया में होने वाला आधा सिर दर्द के लिए nevrovitamin टेबलेट कम करता है।

लारपोज (larpose)

चिंता, मनोजन्य सिर दर्द, मानसिक तनाव के कारन होनी वाला माइग्रेन, में इसकी 2 से 3 मिलीग्राम टिकियों के रूप में खिलाएं।

लिब्रियम (librium)

इसकी एक टिकिया दिन में 3 से 4 बार इस्तेमाल करें।

विटामिन बी टेबलेट

विटामिन बी के टेबलेट आधे सिर दर्द का इलाज करती है।

बेरिन टेबलेट

इसका इस्तेमाल करने से माइग्रेन दूर होता है।

बेरिन इंजेक्शन का करें इस्तेमाल

इसके टेबलेट और इंजेक्शन दोनों ही कारगर है।

बेटास्पान beta span capsule

यह केमिस्ट के पास आसानी से मिल जाएगी।

 सावधानियाँ: कोरोनरी डिजीज, उच्चरक्तचाप, हार्ट ब्लॉक, एसिडोसिस में इसका सेवन कदापि न करें।

माइग्रेन के दौरान परहेज

माइग्रेन का दर्द अथवा माइग्रेन का सिर दर्द से बचने के लिए इन बातों का परहेज करें।

  • ब्राइट और रोशनी वाले जगह में सोना या रहना माइग्रेन को बढ़ा सकता है।
  • तीखे पदार्थ, तेल आदि का सेवन करना।
  • खाने का समय सही न होना।
  • धूप में निकलना।
  • नहाने खाने के समय का ध्यान न देना।
  • इत्र का इस्तेमाल करना, या तेज गंध वाले चीजों को जिन्दगी में उपयोग में लाना।
  • पास से मनोरंजन वाले यंत्रों का इस्तेमाल करना।
  • मदिरापान या शराब पीना वर्जित है।

माइग्रेन के समय क्या करें?

  • भरपूर मात्रा में पानी पियें।
  • ठन्डे पदार्थों का सेवन करें।
  • हरी तरकारिया का सेवन करने से माइग्रेन को रोका जा सकता है।
  • पालक और गाजर के जूस को इकठ्ठा कर के जूस पियें। “माइग्रेन का इलाज, लक्षण,दवा । आधे सिर दर्द का इलाज । migraine ka ilaj in hindi”ilaj
Gravatar Image
Sarthak Upadhyay is a health blogger and creative writer, who loves to explore various facts, ideas, and aspects of life and pen them down. The whole site is managed by him. Writing is his passion and enjoys writing on a vast variety of subjects. Periods, pregnancy, and Home-remedies are his specialty areas.

2 thoughts on “माइग्रेन का इलाज, लक्षण,दवा । आधे सिर दर्द का इलाज । migraine ka ilaj in hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *