A box containing Pathri ki dawa

पथरी घोलने की दवा, टेबलेट और सिरप – Pathri ki dawa

Posted on

पथरी की समस्या काफी दर्दनाक होती है। इससे पीड़ित सभी लोग इससे जल्द ही निदान पाना चाहते हैं। हालांकि, आपरेशन से इसका इलाज सही ढंग से किया जा सकता है। यकीनन, अगर आयुर्वेदिक दवाओं के इस्तेमाल से ही पथरी को ठीक किया जा सकता है तो इसके लिए ऑपरेशन की क्या आवश्यकता है? चलिए कुछ pathri ki dawa के बारे में जानते हैं।

पथरी होने का वैज्ञानिक कारण – pathri ka karan

हमारा पाचन तंत्र, हमारे द्वारा खाएं गए सभी खाद्य पदार्थ को पचाने का काम करता है। ये खाद्य जब पच जाते हैं तब इनका अवशेष (waste materials) गुर्दे और पेशाब के माध्यम से बाहर जाता है।

अगर किसी कारणवश यह कार्य प्रभावित होता है तो यह अवशेष एक जगह जम जाते हैं और एक ठोस पदार्थ में बदल जाते हैं और वह पदार्थ पथरी कहलाता है। तो चलिए पथरी घोलने की कुछ आयुर्वेदिक दवा , मेडिसिन और टेबलेट के बारे में जानते हैं।

पथरी की 4 दवा, सिरप, मेडिसिन और टेबलेट – pathri ki dawa, syrup, medicine aur tablet

नीरी सिरप (Neeri syrup)

स्टोन या पथरी को घोलने के लिए नीरी सिरप बहुत ही बेहतर सिरप है। 2 चम्मच सिरप दिन में तीन बार पीएं अथवा डॉक्टर के द्वारा बताई गई खुराक के अनुसार सिरप को पीएं।

दिव्य अश्मरीहर रस (DIVYA ASHMARIHAR RAS) टेबलेट

पथरी की यह पतंजलि दवा का एक उत्पाद है जो आसानी से पथरी बाहर निकलने के लिए जाना जाता है। नियमित रूप से डॉक्टर के द्वारा बताई गई खुराक या दिन में 1 से 2 गोली पानी के साथ खाएं।

दिव्य अश्मरीहर रस मूत्र संबंधी समस्याओं से राहत देता है। इसमें जड़ी-बूटियों से मौजूद मूत्रवर्धक गुण होते हैं। ये तत्व विषाक्त पदार्थों को शरीर से बाहर निकालते हैं और पथरी को घोलने में मदद करते हैं।

इतना ही नहीं यह औषधि जीवाणु के कारण जमे हुए पथरी के संक्रमण को भी प्राकृतिक रूप से बाहर निकलने में कारगर होती है। इतना ही नहीं यह औषधि पथरी के दर्द को भी खतम करती है। पथरी की दवा के लिए यह उच्च टेबलेट है।

डाबर स्टोनडब सिरप (Dabur Stondab Syrup)

डाबर स्टोनडब सिरप कई औषधीय पौधों का उपयोग करके तैयार की जाने वाली पथरी घोलने के लिए आयुर्वेदिक दवाओं में से एक है। यह वरुण, रक्त पुनर्नवा, गुरुची, अपामार्ग, और पाषाणभेद से मिलकर बनी होती है। 2 चम्मच सिरप दिन में तीन बार पीएं।

Calcury Tablet (कैलकरी टैबलेट)

किडनी stone या पथरी को दूर करने के लिए कैलकरी टैबलेट एक बेहतर औषधि है। इस टेबलेट का सेवन करने के लिए दवाई लेते वक्त फिजिशियन से पूछें।
इस तरह से आप जान चुके हैं की pathri ki dawa में इन दवाइयों को इस्तेमाल कर आप अपने पथरी को आसानी से गला सकते हैं।

पथरी की दवा में बताए गए सभी टेबलेट और सिरप वाकई में कारगर हैं जिसकी मदद से आप आसानी से अपने स्टोन को 1 ही महीने में गला सकते हैं। लेकिन, मेरे सलाह के मुताबिक़ आप एक बार डॉक्टर से जांच करा लें और इनके आकार के अनुसार डॉक्टर से इन दवाओं को खाने के सलाह को अच्छी तरह से अनुसरण करें।

पथरी की दवा के सेवन में जरूर बरते ये सावधानियाँ:

• गरिष्ठ पदार्थ के सेवन से जरूर बचें
• कोई भी ऐसा खान-पान न करें जो आपके लीवर को नुकसान पहुंचाएं
• शराब और भी कोई नशा का सेवन न करें
• बीज से भरे फल का सेवन न करें
• ऐसा खाना खाएं जो आसानी से पच सके
• इन दवाइयों के इस्तेमाल के साथ दिन में 5 से 6 लीटर पानी पीना अनिवार्य है

FAQ

क्या pathri ki dawa के साइडइफ़ेक्ट होते हैं?

नहीं, सभी दवाएं आयुर्वेदिक हैं इसलिए इनके प्रयोग से कोई भी नुकसान नहीं होता है। आप निःसंदेह इनका सेवन कर सकते हैं।

पथरी होने पर कितना पानी पीना चाहिए

दिन में कम से कम 5 से 6 लीटर पानी पीना उचित होगा। इसलिए आप पानी पीने का समय schedule कर लें।

Gravatar Image
Sarthak upadhyay is a health blogger and creative writer, who loves to explore various facts, ideas, and aspects of life and pen them down. sarthak is known with English and hindi. Writing is his passion, and enjoys writing on a vast variety of subjects. Relationship, Astrology, and entertainment, Periods, pregnancy, and Home-remedies are his specialty areas.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *