पेचिश का इलाज, उपाय नुस्खे कारण और लक्षण, pechis ka ilaj

रामबाण नुस्खे करेंगे पेचिश का इलाज, उपाय और रोकथाम

Posted on

पेचिश एक ऐसी बीमारी है जो आँतों में होने वाले inflamation के चलते होती है जिसमे मल का त्याग करते वक्त गुदा के मार्ग से खून का स्त्राव होता है और पेट के निचले हिस्से में भयंकर दर्द होता है। यह दर्द बहुत ही असहनीय होता है। स्वास्थ्य का ख़याल रखते हुए हम आप तक पेचिश का इलाज लेकर उपास्थित हुए हैं, जो आपको बहुत जल्दी इस गम्भीर समस्या से निजात दिलाएगा।

पेचिश के कारण

इसके कई कारण हो सकते हैं।जैसे- गलत खान पान इसका सबसे बड़ा कारण है।  गलत खान-पान के चलते आपकी बड़ी अंत या पेट में किसी तरह का इन्फेक्शन हो जाता है, जिसके चलते आपके गुदा मार्ग से रक्त स्त्राव होने लगता है और यह पेचिश कहलाता है। अगर इसे सही समय पर ठीक नहीं किया जाय तो यह एक बहुत ही गंभीर समस्या पैदा कर सकता है।

पेचिश के लक्षण

आप पेचिश का अंदाजा अपने शरीर में इन लक्षणों को देखकर लगा सकते हैं। 

  • गुदा मार्ग से मल के दौरान खून का स्त्राव होना
  • पेट के नीचे वाले हिस्से में जोर का दर्द होना
  • कमजोरी लगना
  • बार-बार मॉल त्याग के लिए उत्सुक होना
  • भूंख न लगना
  • उल्टी की समस्या हो जाना
  • बुखार आना

अगर आप इन समस्याओं से पीड़ित हैं तो शायद आपको पेचिश की समस्या है, पेचिश का सबसे बड़ा दावा करने वाला लक्षण यह है कि आपके गुदा मार्ग से रक्त का स्त्राव होता है ।

पेचिश का इलाज, उपाय और घरेलू नुस्खे

तो चलिए आज हम उन उपाय को जानते हैं जिनकी मदद से आप बड़े ही आसानी से अपने पेचिश की समस्या को ख़तम कर सकते हैं ।

छांछ

छांछ का इस्तेमाल आपको पेचिश की समस्या से बचाने में पूरा मदद करेगा ।

 आवश्यक सामाग्री :

  1.  गाय के दूध का 1 गिलास मठा 
  2. 1 चम्मच की मात्रा में सेंधा या काला नमक
  3.  काली मिर्च और जीरा का 1 चम्मच पाउडर

प्रयोग विधि

ऊपर बताई गई सभी चीजों को एक साथ मिला लें और इसका दिन में 3 बार इस्तेमाल करें। निश्चित ही आपको पेचिश की समस्या से छुटकारा मिलेगा। 

यह न केवल आपके पेचिश की समस्या से छुटकारा दिलाएगा बल्कि इसके सेवन से आपके पेट संबंधी कई विकार से आपको रहत मिलेगी। यह आपको डिहाइड्रेशन की समस्या से बचाने में आपकी मदद करता है।

नींबू

नींबू का भी इस्तेमाल आपको आपके पेचिश की समस्या से छुटकारा दिलाएगा ।

  आवश्यक सामाग्री

  1. एक बड़ा नींबू
  2. 1 गिलास पानी
  3. सेंधा नमक

प्रयोग विधि

सबसे पहले आप 1 गिलास पानी को उबाल लें और जब यह ठंडा हो जाय तो आप इसमें नींबू को निचोड़ ले और एक चम्मच सेंधा नमक मिला दें। अब इस मिश्रण को अच्छी तरह से मिलाने के बाद दिन में 5 से 6 बार पियें।

यह आपको Dysentery की समस्या से राहत दिलाने में आपकी बहुत मदद करेगा ।यह न केवल आपको Dysentery से बचाएगा बल्कि आपके पेट को साफ रखेगा और कब्ज की समस्या को आप से दूर रखेगा।

हरा केला

हरा केला आपको पेचिश की समस्या से बड़े ही आसानी से बाहर निकल सकता है।

आवश्यक सामाग्री

  1. एक हरा केला
  2. एक गिलास गाय के दूध का छांछ ।

प्रयोग विधि

हरे केले के छिलके को बार निकाल कर गूझे को मीज लें और अब मीजे हुए गूझे को छांछ के साथमिला लें और छांछ को पी जाएँ। अगर आप यह तरीका दिन में 3 बार आजमाते हैं तो आप बड़े हीआसानी से बहुत ही जल्द पेचिश की समस्या से छुटकारा पा सकते हैं ।

दही और हल्दी का मिश्रण

दही बड़े ही काम की चीज है जो आपके पेट को ठंडक पहुँचती है, साथ में इसके साथ मिली हुई हल्दी आपके पेचिश की समस्या को ख़तम करने में बहुत मदद करती है।

आवश्यक सामाग्री

  1. हल्दी मात्र एक चम्मच
  2. 2 चम्मच की मात्रा में दही
  3. चुटकी भर हींग
  4. सेंधा नमक 
  5. 1 गिलास पानी

प्रयोग विधि

ऊपर बताई गई सभी सामाग्रियों को अच्छी तरह से मिला लें और इसे धीमे आंच में 10 से 15 मिनट के लिए उबालें। जब उबल जाए तो इसे ठंडा होने के लिए रख दें और ठंडा होने के बाद इसका घूँट-घूँट कर के सेवन करें। ‘पेचिश के लिए इलाज, घरेलु उपाय, बचने का आसान तरीका’ ध्यान दें इस मिश्रण का सेवन दिन में लगभग 4 से 5 बार करना है। अगर आप इस तरीके का इस्तेमाल करते हैं तो बड़े ही आसानी से अपने पेचिश की समस्या से बहुत ही जल्द छुटकारा पा सकेंगे।

दूध

पेचिश की समस्या से आप दूध की मदद से बड़े ही आसानी से छुटकारा पा सकते हैं।

आवश्यक सामाग्री

  1. 1 बड़े नींबू का रस
  2. गिलास गाय का ताजा और ठंडा दूध

प्रयोग विधि

गिलास गाय के ठन्डे दूध में 1 बड़े नींबू के रस को निचोड़ लें और देरी न करते हुए इसे तुरंत ही पी लें। अगर आप यह तरीका दिन में 2 से 3 बार आजमाते है तो आप बड़े ही आसानी से पेचिश से छुटकारा पा सकते हैं और अपने आपको गंभीर परिस्थितयों से बचा सकते हैं।

पेचिश से बचने के लिए रोकथाम

  • अगर आप शौचालय जाते हैं तो अपने हांथों को जरूर धुले ।साथ ही खाना खाने के पहले भी हांथों को धुलें। अगर अप ऐसा नहीं करते हैं तो वायरस आपके शरीर के भीतर चले जाएंगे और आपको पेचिश की समस्या से गुजरना पड़ सकता है।
  • जब तक पेचिश से आराम न मिले तो आप कही घूमने न जाएँ।
  • अपने बच्चो को हाँथ जरूर धुलाएँ और उन्हें हाँथ न धोने के नुकसान से भी परिचित कराएं।
  • कच्चे पदार्थों का सेवन न करें, हमेशा पके पदार्थों को ही खाएंं। अगर खाना ठंडा हो जाए तो आप खाने का सेवन न करें।
  • हमेशा शुद्ध और स्वच्छ पानी ही पियें ।
  • अपने उन सभी कपड़ों को अच्छी तरह से धुलें जो आपके आस-पास रहते हों, क्यूंकि पेचिश में सबसे बड़ा योगदान बैक्टीरिया का रहता है ।

इस तरह से आप बड़े ही आसानी से अपने आपको पेचिश की समस्या से बहार निकल सकते हैं । “पेचिश के लिए इलाज, घरेलु उपाय, बचने का आसान तरीका” इसके लिए आप ऊपर बताए गए सभी तरीकों को अच्छी तरह से फॉलो करें। अगर आप ऐसा नहीं करते हैं तो आपको पेचिश से छुटकारा नहीं मिलेगा ।

Gravatar Image
Lyfcure specifically shares important information related to pregnancy, periods and home remedies. Lyfcure has introduced a lot of pregnancy and health related information to the whole people in 2018 who belongs to india and reads hindi. we are mot popular in India as a health consultant.

18 thoughts on “रामबाण नुस्खे करेंगे पेचिश का इलाज, उपाय और रोकथाम

  1. Sir mere bete ko pechis ki sikayat hai 4din se usko blood wali loose motion ho rahe hai din bhar me 15se 20 baar jata hai koi acha upay bataye uski umar 4saal hai

  2. सर नमस्कार। हमे करीब एक साल से लाल पेचिस हो रहा है दवा खाने के बाद ठीक तो हो जाता है पर 10/15दिन बाद फिर होने लगता है क्रृपया उपाय बताएं मैं आपका बहुत आभारी रहुंगा।

    1. Yah इरिटेबल बॉएल सिंड्रोम ka bhi lakshan ho sakta hai, ya phir aapke nutrients me garisht padarth jyada shamil ho sakta hai. Mere ko to yah इरिटेबल बॉएल सिंड्रोम vali bimari jyada mahsus hoti hai, sach kya hai yah aapko doctor ko dikhane ke bad hi malum hoga..

    1. धर्मेंद जी आपका आभार!! आप हमसे जुड़े रहें और कोई भी समस्या हो तो निस्फिकिर हो कर पूछ सकते हैं।।

    1. You must try any home remedies given above, the best one is the buttermilk..You have to follow the instructions to use that and after 1 to 2 weeks you will be able to fight with white or another dysentery…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *