महिला पीरियड के कितने दिन बाद प्रेग्नेंट नहीं होती हैं – period ke kitne din baad pregnancy nahi hoti hai

प्रेगनेंसी से बचने के लिए बाजार में कई तरह की दवाइयां उपलब्ध हैं लेकिन, अगर एक निश्चित समय पर सम्भोग किया जाए तो महिला प्रेगनेंसी से बच सकती है| गर्भधारण में सबसे अहम किरदार महिला का ओवुलेशन टाइम निभाता है। अगर महिला ऐसे समय में सम्भोग करती है जब उसका ओवुलेशन पीरियड नहीं होता है तब गर्भावस्था के चांसेस बहुत कम होते हैं।

तो क्यों न ऐसे समय पर संभोग किया जाए कि महिला गर्भवती ही न हो|आइये जानते हैं पीरियड के कितने दिनों बाद सम्भोग करने से महिला प्रेग्नेंट नहीं होती है|

पीरियड के कितने दिन दिन बाद गर्भावस्था (प्रेग्नेंट) नहीं होती है – period ke kitne din baad pregnancy nahi hoti hai

इसके लिए आपको अपना सही मासिक चक्र (menstrual cycle or periods cycyle) पता होना चाहिए। आपको यह पता होना चाहिए की आपका पीरियड कितने दिन चलता है, कब शुरू होता है और कब ख़त्म होता है। अगर महिला का ovulation time चल रहा है तो पुरुष का एक शुक्राणु भी गर्भधारण में सक्षम होता है।

इसलिए आपको पीरियड्स ख़त्म होने के बाद उन दिनों सम्बन्ध बनाना चाहिए जिस दौरान महिला का ovulating टाइम न हो। मतलब आप पीरियड ख़त्म होने के बाद सातवें दिन से आठवें  दिन तक सम्बन्ध बना सकते हैं, जिसमें प्रेगनेंसी के चांस 60 परसेंट नहीं रहेंगे।

यह तरीका कितना काम करेगा और इसमें हमारी सलाह क्या है

पुरुष वीर्य में मौजूद शुक्राणु महिला के योनी में प्रवेश करने के बाद 4 से 5 दिन तक जीवित रह सकते हैं और अगर उस समय महिला का ovulation period चालू हो गया तो गर्भधारण होते देरी नहीं लगेगी। पीरियड खत्म होने के बाद सातवें दिन सम्बन्ध बनाने से कुछ महिलाएं गर्भवती हो जाती हैं जबकि, कुछ महिलाएं गर्भवती नहीं होती हैं।

इसलिए सिर्फ 60 प्रतिशत चांस ही रहता है कि महिला गर्भवती नहीं होगी जबकि, गर्भावस्था की 40 प्रतिशत संभावना बनी रहती है। इसलिए , ‘period ke kitne din baad sambandh banane se pregnant nahi hoti hain’ का पूरा फायदा लेने के लिए बेहतर यही होगा की आप संबंध के दौरान प्रोटेक्शन का इस्तेमाल करें। 

मेरी भी यही सलाह है की आप कंडोम इस्तेमाल करें। इससे न केवल गर्भधारण से बच सकेंगे बल्कि, आपको और भी कई तरह के फायदे होगें| जैसे – आपको इन्फेक्शन नहीं होगा और आप कई तरह की संक्रामक बीमारियों से बच सकते हैं।

Default image
Sarthak upadhyay
Sarthak upadhyay is a health blogger and creative writer, who loves to explore various facts, ideas, and aspects of life and pen them down. sarthak is known with English and hindi. Writing is his passion, and enjoys writing on a vast variety of subjects. Relationship, Astrology, and entertainment, Periods, pregnancy, and Home-remedies are his specialty areas.

Leave a Reply