गर्भावस्था में गर्भ ठहरने के 11 लक्षण – Pregnancy ke lakshan

Posted on Modified on

“कैसे जाने महिला प्रेग्नेंट है या नहीं” अपने s*x के बाद जब किसी भी महिला का पहला पीरियड्स मिस होता है और उस दौरान उसके साथ कई तरह के बदलाव होते हैं तब वे यह जानने के लिए उत्सुक रहती है की क्या ये बदलाव उनके प्रेगनेंसी के लक्षण तो नहीं हैं|s*x करने के २ सप्ताह से ही महिला को कई ऐसे लक्षण महसूस होते हैं जो यह बता सकते हैं की लड़की प्रेग्नेंट है या नहीं| गर्भ ठहरने के लक्षण में कई ऐसे symptoms हैं जो 90 प्रतिशत तक यह तय कर सकते हैं की महिला गर्भवती हो चुकी है  “या” फिर नहीं हुई है| हम आपको 11 गर्भावस्था के लक्षण को बताने जा रहे हैं , जिन्हें आपके शरीर में नजर आने के बाद आपको यूरिन प्रेगनेंसी टेस्ट कर लेना चाहिए| इससे उन लडकियों को बहुत फायदा होगा जो अपने गर्भ को नहीं ठहरने देना चाहती हैं| दरअसल, प्रेग्नेंट होने के लक्षण, पहले से ही पता चल जाने के चलते वे महिलाएं प्रेगनेंसी टेस्ट कर के यह सुनिश्चित कर सकती हैं की वे प्रेग्नेंट हैं या नहीं और बाद में दवा के माध्यम से प्रेग्नेंट होने से खुद को बचा सकती हैं| pregnancy ke lakshan, pregnant hone ke lakshan in hindi

pregnant hone ke lakshan kya hai? प्रेग्नेंट होने के लक्षण क्या हैं?

हम नीचे आको कुछ 11 गर्भ ठहरने के लक्षण के बारे में बताएँगे जिसे देख आप गर्भावस्था की जांच प्रेगनेंसी किट से कर सकती हैं| Early pregnancy symptoms in hindi- 

Pregnancy ke lakshan, प्रेग्नेंसी के लक्षण

missing Periods – पीरियड्स का मिस हो जाना है प्रेग्नंट होने के लक्षण

किसी भी महिला का s*x के बाद अगर पहला पीरियड्स मिस हो जाता है तो Preganant hone ke lakshan में यह सबसे ताकतवर लक्षण हैं, जो 90 प्रतिशत प्रेगनेंसी का दावा करता है| लेकिन, कई बार पीरियड्स और भी कई कारण से नहीं आते हैं, इसलिए अगर पीरियड्स मिस होते हैं तो आप तुरंत यह न सोच लें की आप प्रेग्नेंट हैं| यह कन्फर्म करने के लिए की आप प्रेग्नेंट हैं आपको पीरियड्स के मिस होने के 3 से 4 दिन बाद एक प्रेगनेंसी किट से गर्भवस्था की जांच करनी चाहिए|

कोमल और सूजे हुए स्तनं बताएँगे गर्भ ठहरने के लक्षण – Tender and swollen breasts

प्रेगनेंसी के लक्षण में स्तनों का सूज जाना और मुलायम हो जाना भी शामिल है, जो आपको लगभग s*x के दो सप्ताह बाद नजर आएगा|स्तनों के मुलायम या सूज जाने के साथ आपके स्तन आपको काफी वजनी और पहले के मुताबिक़ ज्यादा भरे हुए महसूस होंगे| pregnancy ke lakshan में यह लक्षण लगभग 70 से 80 प्रतिशत महिलाओं में देखने को मिलता है| कुछ महिलाऐं इस लक्षण को 1 माह बाद महसूस करती हैं|

जी मिचलाना और उलटी होने की समस्या से करें पुष्टि- vomitting and Nausea

महिला जिनका गर्भधारण हो चुका है, उन्हें २ सप्ताह बाद से जी मिचलाना और उलटी होने की समस्या शुरू हो जाती है| pregnant hone ke lakshan में शामिल यह संकेत ज्यादातर महिलाओं को 4 सप्ताह के बाद दिखाई देता है| ऐसा इसलिए होता है क्योंकि, उनमे हार्मोनल परिवर्तन देरी से होता है| 

हल्की ब्लीडिंग महसूस होना या तरल पदार्थ निकलना है गर्भावस्था के लक्षण- Vaginal bleeding or spotting

s*x करने के 10 से 15 दिन के बाद आपको एक बार या दो बार हलकी spotting हो सकती है| गर्भावस्था के लक्षण में हल्की ब्लीडिंग आपको आपके पीरियड्स के डेट से पहले हो सकती है, इसलिए आप यह न सोच लें की आपका पीरियड्स जल्दी आया और सही तरीके से नहीं चला| प्रेगनेंसी के शुरूआती दिनों में तीन माह तक हलकी spotting हो सकती है| लेकिन, अगर ज्यादा ब्लीडिंग हो तो आपको डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए| 

जीभ का स्वाद बदल जाना है, pregnancy kelakshan– change in taste

गर्भवती महिला के शरीर में हार्मोनल परिवर्तन हो जाने के कारण उसके जीभ का स्वाद भी बदल जाता है| ऐसा होने पर आपको कई तरह के फ़ूड का taste बदला नजर आता है और आप सिर्फ खट्टा पदार्थों के स्वाद को ही पहचान पाते हैं| pregnancy ke lakshan में इस लक्षण से लगभग सभी गुजरती है| यही एक वजह है जिससे गर्भवती महिलाओं को खट्टा खाने का मन करता  है|

अक्सर सिरदर्द की समस्या होना है pregnant hone kelakshan– headaches

गर्भावस्था के शुरुआती दिनों में, हार्मोनल परिवर्तन के कारण pregnant lady के शरीर में ब्लड सर्कुलेशन में वृद्धि होती है और इस वजह से अक्सर सिरदर्द की समस्या होती है|

इसे भी पढ़ें

1. 1 दिन में प्रेग्नेंट होने का तरीका
2. अनवांटेड 72 सेे बच्चा कैसे गिराएँ
3. Period ke kitne din baad pregnancy hoti hai.
4. Period jaldi aane ki dawa
5.pregnancy test kab kre.
6. किट से  प्रेग्नेंसी टेस्ट कैसे करें

प्रेग्नेंट होने के लक्षण में होती है कब्ज की समस्या- constipation

गर्भ ठहरने के लक्षण में कब्ज हो जाना भी शामिल है| महिला को कब्ज की समस्या प्रेगनेंसी के शुरुआत से लेकर अंत तक हो सकती है| ऐसा  इसलिए होता है क्योंकि प्रेगनेंसी के समय शारीर में progesteron हार्मोन का लेवल बढ़ जाता है, जिस वजह से खाना आंत में धीरे-धीरे जा पाता है| खाना धीरे जाने के चलते यह पचने में समय लेता है और गर्भवती महिला को कब्ज से गुजारना होता है|

मूड में बदलाव आ जाना – mood swings 

महिला के गर्भवती हो जाने पर उसके मूड में हमेशा परिवर्तन होता रहता है| उदाहरण के लिए अगर अभी टी वी देखने का मन है और आपको कुछ देर बाद रडियो सुनने का मन आ जाए| मूड स्विंग हर चीज को लेकर हो सकता है| चाहे फिर वो मनोरंजन में हो या खाने में|

शरीर का तापमान बढ़ जाना भी दर्शाता है प्रेगनेंसी- rise in body temprature

पप्रेग्नेंट हो जाने पर  pregnant महिला के शारीरिक तापमान में वृद्धि हो जाती है| आपको यह लक्षण s*x के 15 से 18 दिन में प्रतीत होगा, जिसमे आपके बॉडी का temprature धीरे-धीरे बढ़ जाएगा|

बार-बार पेशाब आने से भी प्रेगनेंसी के लक्षण का पता चल जाता है- Having a wee

प्रेग्नंट महिला को बार-बार पेशाब आता है| यह रात में ज्यादा देखने को मिलता है| यह ऐसा इसलिए होता है क्योंकि आपके शरीर में ovulation के दौरान कई तरह के harmonl changes होते हैं जिस वजह से शरीर से तरल पदार्थ का स्त्राव धीरे-धीरे होता है और आपको पेशाब रुक रुक के आती है| यह लक्षण लगभग हर महिला फील करती है| s*x के २ सप्ताह बाद से ही आपको यह लक्षण नजर आने लगेगा| कई महिलाओं को यह लक्षण देरी से नजर आ सकता है जो बेबी ए डेवलपमेंट के दौरान भी जारी रहता है|

थकान महसूस करना – fatigue

हर वक्त ग्लानि महसूस होती है और महिला को किसी भी कार्य को करने में अच्छा नहीं लगता है| वः हर वक्त टेंशन में भी रहती है| इस वजह से गर्भवती महिला के सिर में भारीपन भी महसूस होता है, जिसमे टेबलेट से आराम नहीं मिलता है|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *