आखिर क्यों मनाते हैं रोज डे, क्यों माना जाता है लाल गुलाब को खास | rose day kyu manate hai

Posted on
 
 
आपको तो पता ही होगा कि वैलेंटाइन डे की शुरुआत है रोज डे से ही होती है | 7 February को रोज डे मनाया जाता है |  इस दिन एक सच्चे दोस्त एक दूसरे को फूल देकर अपने प्यार का इजहार करते हैं यहां पर प्यार से मतलब ना केवल लड़के और लड़कियों से है बल्कि एक सच्चे दोस्त भी एक दूसरे को अपने प्यार का इजहार एक फूल देकर कर सकते हैं  | हालांकि इस दिन जो लोग सिंगल है वह इस दिन को बहुत ही खास मानते हैं और वह अपने प्यार का इजहार इसी दिन करना सही समझते हैं | साथ ही हम यह भी जानेंगे कि अलग-अलग तरीके से और अलग-अलग कलर के गुलाब को देने का क्या मतलब होता है
रोज डे मनाने को लेकर एक कहानी बताई जाती है। अगर आप ROSE के अक्षरों को ठीक तरीके से व्यवस्थित करते हैं तो यह बन जाता है ‘EROS’ जो प्रेम के देवता है।  ग्रीक माइथोलॉजी बताती है कि प्रेम की देवी Venus का भी गुलाब पसंदीदा  फूल हैं | 
रोज डे में लाल गुलाब है खास
 
इस दिन लाल गुलाब को ख़ास माना जाता है, यह उन लोगों के लिए काफी ख़ास होता है जो अपने प्यार का इजहार करना चाहते हैं | यह प्यार का प्रतीक है | इसके पीछे की कहानी में बताया जाता है के मुगल सल्तनत के बेगम नूरजहाँ को लाल गुलाब बहुत ज्यादा पसंद था और उनके शौहर नूरजहाँ के दिल को तवज्जू देते हुए उन्हें खुश रखने के खातिर लाल गुलाब उन तक पहुँचाया करते थे | इसके खातिर वे अपने कमरे को जहां मिया बीवी राजी होते थे वहाँ पूरा कमरा लाल गुलाब की भीनी खुशबू से भरा होता था | इस बात को लेकर आज हम लाल गुलाब को प्रेम का प्रतीक कहते हैं | यह गुलाब रोज डे में अधिकतर इस्तेमाल किया जाता है जो इश्क को दर्शाने का एक बहुत ही बढ़िया नजरिया है | 
पिंक रोज का भी करते है इस्तेमाल
 
इस रोज को शेयर कर के उत्साह को दर्शाया जाता है |
 
पीला गुलाब
 
गहरी दोस्ती को दर्शाने के लिए पीला गुलाब का इस्तेमाल करना आपके लिए बहुत ही बेहतर होगा |
 
सफ़ेद गुलाब
 
सफ़ेद गुलाब को लेकर यह माना जाता है कि यह शान्ति का प्रतीक है और लोग इस दिन इस गुलाब को शेयर कर के यह दर्शाना चाहते हैं की उनके बीच में सहानुभूति की कितनी भावना है |

आपके खातिर हमारे कुछ और लेख

मेरे बारे में कुछ ख़ास सुनना चाहेंगे तो वो है मेरा साधारण होना| मेरे को एक बीमारी भी है “सोचने की बीमारी” मैं खुद को इससे बचा ही नहीं पाता| इसी बीमारी ने मुझे लिखने का जज्बा दिया| गहराइयों में उतरने की आदत है मेरी, हालाँकि ज़्यादातर लोग इससे डरते है, बचते है, डूबने का खतरा जो होता है। लेकिन मैं अपनी कोशिश जारी रखता हूँ”। आशा करता हूँ के मेरे द्वारा प्रदान किये गए सभी हेल्थ जानकारी आपको पसंद आएगी| इन हेल्थ जानकारियों को मैं आयुर्वेद के सलाहकार की मदद से आप तक पहुंचाने की कोशिश करता हूँ| खैर मुझे पता है कि मेरा आपको स्वस्थ रखने का प्रयास खारिज नहीं जाएगा| बस पढ़ते रहे- शुक्रिया!

Leave a Reply

Your e-mail address will not be published. Required fields are marked *