sardi ki dawa

सर्दी जुकाम की दवा, अंग्रेजी aur आयुर्वेदिक मेडिसिन्स- sardi ki dawa

Posted on

“सर्दी जुकाम की दवा” –सर्दी के दौरान नाक में भयानक जलन और बहता हुआ नाक सभी के लिए कष्टप्रद होता है और इससे सभी छुटकारा पाना चाहते हैं। हालाकि जुकाम के इलाज के लिए हमने घरेलू इलाज को भी बताया है जिससे आप अपनी जुकाम को दूर कर सकते हैं। लेकिन, हमारे कुछ मरीज भाइयों का कमेंट आया की सर आप हमें छींक और नाक को बहने से रोकने  के आयुर्वेदिक दवाई और अंग्रेजी दवाई के बारे में बताएं। इस वजह से आज हम आपको सर्दी की दवा के बारे में बताने जा रहे हैं जिसकी मदद से आप अपनी सर्दी को 3 से 4 दिन के भीतर दूर कर सकते हैं। sardi ki dawa

sardi ki dawa

नोट- आयुर्वेदिक दवाइयों को आप यहाँ बताए गए निर्देश के अनुसार उपयोग में ला सकते हैं। लेकिन, अंग्रेजी दवाइयों का इस्तेमाल आप एक बार डॉक्टर से पूछ कर ही करें। सर्दी जुकाम की दवा

सर्दी जुकाम की आयुर्वेदिक दवा 

1.DIVYA SWASARI PRAVAHI है सर्दी जुकाम की दवा

हर तरह की रेस्पिरेटरी प्रॉब्लम को ठीक करने के लिए यह पतंजलि की दवाई बहुत ही अच्छी है तो patanjali cold treatment के खातिर बेहतर है। यह एक प्रकार की सिरप है जो सर्दी को कुछ ही दिनों के भीतर स्थाई रूप से गायब करने के लिए जानी जाती है। यह आपको हर आयुर्वेदिक स्टोर में आसानी से मिल जाएगी। divya swasari pravahi का इस्तेमाल आपको दिन में 5 से 10 ml उपयोग करना है।

2.Dabur Vyoshadi Vati (500mg) है एक कारगर सर्दी जुकाम की दवा

सर्दियों के दौरान, बदलते मौसम और भी कई कारण से होने वाले साडी के लिए Dabur Vyoshadi Vati एक बेहतरीन sardi ki dawa है। इसका इस्तेमाल बहती नाक, काफ, और गले में खसखसाहट के लिए किया जा सकता है।  अगर आपकीआवाज में परिवर्तन आ गया है  तब भी आप इस दवा को उपयोग में ला सकते हैं। इसकी 1 टेबलेट सुबह और शाम गुनगुने पानी के साथ लेने से बहती नाक ठीक हो जाती है।

3.Agastya rasayanam एक बेहतर sardi ki dawa

जुकाम के लिए दवाई में agastya rasayanam को उपयोग में लाना बहुत बढ़िया है। यह अक्सर आयुर्वेदिक डॉक्टर द्वारा जुकाम ठीक करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। साथ ही यह अस्थमा और सौन्दर्य l के लिए  इस्तेमाल किया जा सकता है। इसका इस्तेमाल करने से आपकी त्वचा में निखार आता है। ‘सर्दी की दवा, अंग्रेजी दवाई, आयुर्वेदिक मेडिसिन्स – sardi ki dawa’

2 बड़े चम्मच गर्म पानी के साथ आप इसे इस्तेमाल करें।

Haridrakhanda को उपयोग करें sardi ki dawa में

हरिद्रखंडा का पाउडर दुनिया भर में आयुर्वेदिक डॉक्टरों द्वारा सबसे निर्धारित दवा में से एक है जो छींक और बहते नाक के लिए अक्सर इस्तेमाल में लाया जाता है। ‘सर्दी जुकाम की दवा’

इस पाउडर का एक चम्मच मरीज को दिन में 4 बार गर्म दूध या गर्म पानी के कप के साथ दिया जाता है।

जुकाम सर्दी की अंग्रेजी दवा

  • Brompheniramine टेबलेट जुकाम की दवा में से एक है।
  • क्लोरफेनिरामाइन अक्सर सर्दी के दवा के तौर पर इस्तेमाल की जाती है।
  • Dimenhydrinate, jukam ki dawa के खातिर बेहतर टेबलेटहै।
  • डिफेनहाइड्रामाइन
  • डॉक्सिलामाइन

इस तरह से यहाँ पर बताए गए जुकाम की दवा और सर्दी की दवा (jukam Ki dawa) की मदद से इलाज कर सकते हैं।

“सर्दी की दवा, अंग्रेजी दवाई, आयुर्वेदिक मेडिसिन्स – sardi ki dawa” में बताए गए अंग्रेजी दवा का सेवन आप डॉक्टर से एक बारे पूछने के बाद ही लें। अन्ता आप किसी गहरे समस्या में शामिल हो सकते हैं।

Gravatar Image
Lyfcure specifically shares important information related to pregnancy, periods and home remedies. Lyfcure has introduced a lot of pregnancy and health related information to the whole people in 2018 who belongs to india and reads hindi. we are mot popular in India as a health consultant.

26 thoughts on “सर्दी जुकाम की दवा, अंग्रेजी aur आयुर्वेदिक मेडिसिन्स- sardi ki dawa

  1. मुझे 2 हफ्तों से सर्दी है और घुटनों में दर्द भी हो रही है कृपया उचित दवाई बताएं

    1. आपको किसी चीज से इंफेक्शन होगा। आपको जाकर जांच करानी चाहिए म तभी कोई दवा लें।

  2. सर मुझे बार बार सर्दी होती रहती हैं
    और उसके कारण से अस्थमा भी रहती और यह बीमारी बचपन से है मैं क्या करूँ

    1. आप ऊपर बताए गए टेबलेट में पतंजलि टैबलेट को कुछ दिनों तक इस्तेमाल करें। सब सही हो जाएगा।

    1. आप Dimenhydrinate को डॉक्टर से सम्पर्क करने के बाद इस्तेमाल कर सकते हैं|

  3. Mujhe musam k badlne k Karan hmesa hi Sardi jukam hota rhta h,Kya koi aisi patanjali k churn h ,jise Mai regular le saku,or isase koi dikkat to nhi hogi n

    1. ऊपर बताई गई एक सिरप और किसी एक टेबलेट को डॉक्टर के सलाह से या बताए गए तरीके से खाएं|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *