सिर में भारीपन कैसे दूर करें के आसान इलाज और नुस्खे – sir me bharipan ka ilaj

गलत तरीके से lifestyle का माहौल बनाने से सिर में भारीपन की समस्या हो जाती है। तो चलिए उन कारणों और उनसे बचने के इलाज को जानते हैं।

सिर में भारीपन के कारण, आखिर क्यों होता है

  • अकसर नहाने के बाद पंखे,कूलर के सामने बैठ जाना।
  • पानी न पीने की वजह से।
  • शोर में समय व्यतीत करना भी इस भयंकर बीमारी का कारण है।
  • किसी चीज की एलर्जी।
  • तनाव लेना भी सिर में भारीपन का कारण बनता है।
  • अकसर महिलाएं ज्यादा मेकअप कर लेती हैं जिसके वजह से भी इस समस्या का सामना करना पड़ता है।
  • किसी तेल, शैम्पू, जेल आदि का रिएक्शन भी सर में दर्द पैदा करता है।

सिर में भारीपन के लक्षण

  • आपका सिर आपको बहुत भारी महसूस होता है और सिर को इधर-उधर हिलाने पर दर्द होता है।
  • आपकी आँखें में चुभन होती है।
  • नींद आती है लेकिन आप सो नहीं पाते हैं।

सिर में भारीपन का इलाज – sir me bharipan ka ilaj

लौंग और दूध

लौंग को भूनकर उसका पाउडर बना लें और एक चम्मच पाउडर में एक चुटकी नमक मिलाकर पाउडर को एक गिलास दूध के साथ पी लें। इससे आपको तुरंत ही आधे घंटे के भीतर सिर दर्द से आराम मिल जाएगा।

अदरक का पानी

इसको अदरक के पी से दूर किया जा सकता है। अदरक को छोटे piece में काटकर उसे पानी में उबाल लें। इस पानी को अपने माथे और कनपटी पर लगाएँ। साथ ही आप इसकी सुगंध नाक के जरिये लें।

10 मिनट बाद आप इसे धो दें। इससे आपको बहुत आराम मिल सकेगा।

यूकेलिप्टस का तेल

इस तेल से मसाज करने पर सिर के भारीपन  को दूर कर सकते हैं। मसाज करने के लिए तेल को गुनगुना कर लें।

लहसुन का रस

sir me bharipan ka ilaj के लिए लहसुन के रस को निकालकर 2 चमच्च रस पीएं। इससे कुछ ही देर में आराम मिल जाएगा।

चंदन है कारगर

लकड़ी वाले चंदन को घोट कर माथे में लगाने से सिर में भारीपन दूर हो जाता है। इससे आधा घंटे में ही आपका सिर हल्का हो जाता है।

धनिया और चीनी का घोल

sir me bharipan ka ilaj धनिया को पीस लें अब इसमें शक्कर को पीसकर बराबर मात्रा में मिलाकर घोल बना लें और पी लें।

FAQ

  1. अगर सिर में भारीपन हमेशा रहता है तो क्या करना चाहिए

    कभी-कभी  होने पर आप ऊपर दिए गए टिप्स को यूज कर सकते हैं। लेकिन, अगर आपको यह समस्या रोज होती है तो आपको इसे आंतरिक ढंग से सुधारना पड़ेगा।

    इसके लिए आप रोज रात में दो बादाम को दूध में भिगो दें और सुबह उठने पर उसका सेवन करें। कुछ ही दिनों में  समस्या का जड़ से इलाज संभव हो सकेगा।

    योग करें – अगर आप आंतरिक रूप से इस समस्या से निजात पाना चाहते हैं तो आप कुछ योग का सहारा ले सकते हैं। इसके लिए आप वज्रासन, अनुलोम विलोम और भ्रामरी प्राणायाम को अपना सकते हैं।

Default image
Sarthak upadhyay
Sarthak upadhyay is a health blogger and creative writer, who loves to explore various facts, ideas, and aspects of life and pen them down. sarthak is known with English and hindi. Writing is his passion, and enjoys writing on a vast variety of subjects. Relationship, Astrology, and entertainment, Periods, pregnancy, and Home-remedies are his specialty areas.

Leave a Reply