sir me bharipan kaise door kare| सिर में भारीपन का इलाज

Posted on

गलत तरीके से lifestyle का माहौल बनाने से सिर में भारीपन की समस्या हो जाती है| और भी कई कारण है जो sir me bharipan की वजह बनते हैं| तो चलिए उन कारणों और उनसे बचने के इलाज को जानते हैं|

क्यूँ होता है सिर में भारीपन

  • अक्सर नहाने के बाद पंखे,कूलर के सामने बैठ जाना|
  • पानी न पीने की वजह से भी सिर में भारीपन होता है|
  • शोर गुल्ल में समय व्यतीत करना भी इस भयंकर बीमारी का कारण है|
  • किसी चीज की एलर्जी|
  • तनाव लेना भी sir me bharipan का कारण बनता है|
  • अक्सर महिलाएँ ज्यादा मेकअप कर लेती हैं जिसके वजह से भी इस समस्या का सामना करना पड़ता है|
  • किसी तेल, शैम्पू, जेल आदि का रिएक्शन भी सर में दर्द पैदा करता है|

sir me bharipan

लक्षण क्या हैं?

अगर आपके सिर में भारीपन होता है तो आपका सिर आपको बहुत भारी महसूस होता है और सिर को इधर-उधर हिलाने पर दर्द होता है|

आपकी आँखें में चुभन होती है|

नीद आती है लेकिन आप सो नहीं पाते हैं|

सिर में भारीपन का इलाज

लौंग और दूध

लौंग को भूनकर उसका पाउडर बना लें और एक चम्मच पाउडर में एक चुटकी नमक मिलाकर पाउडर को एक गिलास दूध के साथ पी लें| इससे आपको तुरंत ही आधे घंटे के भीतर सिर दर्द से आराम मिल जाएगा|

अदरक का पानी

इसको अदरक के पी से दूर किया जा सकता है| अदरक को छोटे piece में काटकर उसे पानी में उबाल लें| इस पानी को अपने माथे और कनपटी पर लगाएँ| साथ ही आप इसकी सुगंध नाक के जरिये लें|

10 मिनट बाद आप इसे धो दें| इससे आपको बहुत आराम मिल सकेगा|

यूकेलिप्टस का तेल

इस तेल से मसाज करने पर sir me bharipan को दूर कर सकते हैं| मसाज करने के लिए तेल को गुनगुना कर लें|

लहसुन का रस

लहसुन के रस को निकालकर 2 चमच्च रस पियें| इससे कुछ ही देर में आराम मिल जाएगा|

चंदन है कारगर

लकड़ी वाले चंदन को घोट कर माथे में लगाने से सिर में भारीपन दूर हो जाता है| इससे आधे घंटे में सिर से भारीपन से बचा जा सकता है|

धनिया और चीनी का सलूशन

धनिया को पीस लें अब इसमें शक्कर को पीसकर बराबर मात्रा में मिलाकर घोल बना लें और पी लें|

इससे आपको तुरंत ही सिर में दर्द/भारीपन की समस्या से निजात मिल जाएगा|

अगर अक्सर रहता है सिर में भारीपन

कभी-कभार  होने पर आप ऊपर दिए गए टिप्स को यूज कर सकते हैं|

लेकिन, अगर आपको रोज-रोज सिर में दर्द/ भारीपन आता है तो आपको इसे आंतरिक ढंग से सुधारना पड़ेगा|

इसके लिए आप रोज रात में दो बदम को दूध में भिगो दें और सुबह उठने पर उसका सेवन करें| कुछ ही दिनों में  समस्या का जड़ से इलाज संभव हो सकेगा|

योग करें – अगर आप आंतरिक ढंग से sir me bharipan से निजात पाना चाहते हैं तो आप कुछ योग का सहारा ले सकते हैं|

इसके लिए आप वज्रासन, अनुलोम विलोम और भ्रामरी प्राणायाम को अपना सकते हैं|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *