शुगर का इलाज

diabetes sugar ka ilaj, शुगर का इलाज – diabetes in hindi

Posted on

sugar ka ilaj मधुमेह दूषित खान पान और अनियमित जीवनशैली का नतीजा है| लीवर और पेंक्रियाज ग्रंथि में गड़बड़ी के कारण मधुमेह पैदा होता है| पेंक्रियाज ग्रंथि आमाशय के नीचे ग्रहणी के मध्य में आड़ी पड़ी रहती है और इससे इंसुलिन नामक हार्मोन निकलकर रक्त में मिलता है| यह रक्त में मौजूद ग्लूकोज का ऑक्सीकरण करके ऊर्जा उत्पन्न करता है| इंसुलिन नामक हार्मोन के कारण ही खून में ग्लूकोज की मात्रा संतुलित रहती है| ग्लूकोज भोजन के द्वारा लिए गए कार्बोहाइड्रेट के पाचन के बाद खून में पहुंचती है| diabetes sugar ka ilaj, शुगर का इलाज- complete treatment for diabetes in hindi खून में ग्लूकोज का स्तर खाली पेट होने पर 80 से 120 मिलीग्राम प्रति 100 सी0सी0 के बीच रहता है और भोजन के बाद 100 से लेकर 140 मिलीग्राम के आसपास हो जाता है|

sugar ka ilaj

Diabetes क्या है in hindi 

शुगर का इलाज: जब किसी कारण से पैंक्रियास से निकलने वाले इन्सुलिन हार्मोन की मात्रा कम हो जाती है या उसका निकलना रुक जाता है तो ग्लूकोज का पाचन सही तरीके से न होने के कारण शरीर में ग्लूकोस का स्तर बढ़ जाता है |  यही ग्लूकोज की बढ़ी हुई मात्रा डायबिटीज का कारण बन जाती है जिसके चलते आपको कई कष्ट का सहन करना पड़ता है|

diabetes के प्रकार in hindi

इन्सुलिन आश्रित

शुगर का इलाज: इन्सुलिन आश्रित मधुमेह में रोगों को रक्त शर्करा पर नियंत्रण रखने के लिए इन्सुलिन की सुई लगाईं जाती है | यह मधुमेह 40 वर्ष के कम आयु वाले लोगों और किशोर बच्चो में अधिक देखा जाता है | इस तरह के मधुमेह के रोगी को बार-बार भूंख लगती है और पेसाब आता रहता है | शक्कर में नियंत्रण लाना बिना इन्सुलिन की संभव नहीं होता है और इसके लिए इंजेक्शन लगाना अनिवार्य हो जाता है | 

इन्सुलिन अनाश्रित

शुगर का इलाजयह मधुमेह का एक प्रकार ही है | इस डायबिटीज में इन्सुलिन की सुई नहीं लगाईं जाती है | यह आधी उम्र या वृद्धावस्था में पाई जाती है | इसमें भे दो प्रकार होते हैं | पहला-मोटे लोगों का मधुमेह और दूसरा पतले लोगों का मधुमेह | इन्सुलिन अनाश्रित मधुमेह में कई बार लक्षण नजर नहीं आते हैं | यह केवल जांच से ही पता लग पाता है | कुछ रोगीओं में मधुमेह के आमलक्षण जैसे बार-बार पेसाब आना, बार-बार भूंख लगाना, जख्म न भरना, त्वचा और फेफड़ों का संक्रमण बार-बार होना नजर आ सकते हैं|

डायबिटीज के कारण : 

 कुपोषण से होने वाला मधुमेह

  • इस तरह का मधुमेह गरीब और पिछड़े लोगों में देखा जा सकता है | दरअसल यह अपने आहार में सभी पोषक तत्वों को शामिल न करने की वजह से होता है | इन मरीजों में कुपोषण के साथ-साथ भोज्य पद्राथों में मौजूद विषैले तत्व भी मधुमेह के लिए जिम्मेदार होते हैं | शुगर का इलाज

  गर्भावस्था 

  • गर्भावस्था में भी स्त्रियों का मधुमेह की शिकायत हो जाती है | इसमें खून में ग्लूकोज का स्तर सामान्य से अधिक हो जाता है | हालाकि बच्चा जन्म देने के बाद यह स्तर सामन्य हो जाता है | लेकिन, ऐसी औरतों में अगली बार गर्भावस्था में पुनः झूँ ने ग्लूकोज बढ़ने की संभावना रहती है | इन औरतों को अपने बढ़ती उम्र के साथ सजग रहना चाहिए | क्यूंकि, जीवन के किसी भी पडाव पर वे मधुमेह की शिकार हो सकती है |
  • पैंक्रियास ग्रन्थि में संक्रमण होने से भी मधुमेह की समस्या हो सकती है | अंतःश्रावी ग्रंथियों के श्राव में गड़बड़ी होने केकारण भी मधुमेह की समस्या हो सकती है |
  • किडनी में कोई कराबी या गड़बड़ी आ जाने पर भी मधुमेह हो सकता है | ऐसे में किडनी की बारीक नालिकाओं द्वारा खून के शक्कर का पूरा अवशोषण नहीं हो पाता है | और शक्कर मूत्र में ही रह जाती है | शुगर का इलाज
  •  वंशानुगत कारणों से भी मधुमेह की समय हो सकती है | माता-पिता में अगर मधुमेह से कोई रोगी है तो इसका प्रभाव उनके बच्चे पर भी पड़ सकता है | भले ही यह लक्षण बच्चे में कुछ दिनों के बाद नजर आए |  इन्सुलिन से मधुमेह का इलाज कई डॉक्टर करते हैं | लेकिन, हम आपको ओबताना चाहेंगे कि यह सुरक्षित इलाज नहीं है | क्यूंकि इन्सुलिन के कई दुष्प्रभाव भी देखे गए हैं |

 

1 महीने में डायबिटीज गायब, करे

 

sugar ka ilaj – शुगर का इलाज

मधुमेह जैसी बीमारी का सफल इलाज कर पाना नामुमकिन है| यह बीमारी अकेली नही रहती बल्कि, ह्रदय रोग जैसी खतरनाक बीमारी भी लेकर आती है| इससे बचाव का एक ही तरीका है पूरी उम्र इसके विपरीत कार्य करना और लगातार इसके उपचारों को आजमाते रहना|

 जडी बूटियों द्वारा     

           

  • जामुन, कच्ची ताजी भिन्डी और कच्ची सब्जियां जैसे-लौकी,तोरई आदि खाएं |
  • करेले का जूस या करेले को सुखाकर बनाया हुआ चूर्ण हर रोज खाएं |
  • हरे धनिया की चटनी चालीस दिन लगातार खाने से काफी लाभ होता है | इसको खाने से कोलेस्ट्रॉल का लेवल भबी संतुलित रहता है | इसे अपने स्वादानुसार बनाकर खाया जा सकता है |शुगर का इलाज
  • सूखी मेथी को रात में भिगोकर सुबह उठते ही भीगी हुई मेथी का पानी लें और छानी हुई मेथी की रोटी बनाकर खाएं |
  • सात पत्ते तुलसी, सात काली मिर्च रगड़कर लेने से भी मधुमेह रोग में काफी लाभ होता है |
  • तीन ताजे आंवले तथा एक कागजी नीबू की चटनी बनाकर खाने से भी डायबिटीज से लाभ होता है |
  • पांच पत्ते जामुन को छाया में सुखाकर इसका पाउडर बना लें और इसे सूर्य के ताप से टेप हुए पानी के साथ लें | इससे भी आपको मधुमेह से राहत मिलेगी |sugar ka ilaj
  • शरीर की मालिश खाली हांथों से या तेल से मरीज के रोगियों को सप्ताह में 2 बार जरूर करना चाहिए |

‘diabetes sugar ka ilaj, शुगर का इलाज- complete treatment for diabetes in hindi’

  • गेंहू की भूसी उबालकर या रात में इसे भिगोकर सुबह छाना हुआ पानी पीने से भी मधुमेह की समस्या को दूर किया जा सकता है | इसको पहले सप्ताह में सात दिन, दुसरे सप्ताह में 6 दिन तीसरे सप्ताह में 5 दिन, चौथे सप्ताह में 4 दिन, पांचवे सप्ताह में 3 दिन इस तरह से लेने में विशेष आराम मिलता है |
  • 20 ग्राम जामुन की गुठली, और खास-खास के छिलके को पीस-छानकर सुबह-शाम तीन माशा मठ या पानी के साथ लेने से आपको आराम मिलेगा |
  • जामुन की गुठली का चूर्ण दस ग्राम, गुडमार बूटी सौ ग्राम, सौंठ पचास ग्राम, खार्पाड़े के रस में भिगोकर चने के बराबर गोलियां बनाकर नियमित रूप से शाम-सुबह इसका सेवन करें |
  • मेथी दाना 6 ग्राम लेकर कूट लें और शाम पानी में भीगने के लिए छोड़ दें | सुबह इसे खूब घोटे और बिना चीनी के इसे पी लें | दो माह तक ऐसा करने से मधुमेह रोग भाग जाएगा | शुगर का इलाज
  • ताजा बेलपत्र में 5 पत्ते तथा दस कालीमिर्च दोनों को पीस लें और छांछ के साथ लें | इसे रोजाना पीने से आपको लाभ होगा |
  •  हरे करेले को कूटकर उसका पानी निचोड़कर 50 ग्राम रोज पीने से आपको लाभ मिलेगा |
  •  टमाटर का सलाद, टमाटर की सब्जी, टमाटर का रस रोज पीने से मधुमेह की समस्या ठीक होती है |

  सूर्य चिकित्सा से मधुमेह का इलाज

 मधुमेह के रोगियों को दिन में 9 से 3 के बीच एकांत स्थान में सारी शरीर के कपड़े उतार कर केले के पत्ते से पूरे शरीर को ढक कर लेटना चाहिए | “diabetes sugar ka ilaj, शुगर का इलाज- complete treatment for diabetes in hindi” बीच-बीच में एक दो गिलास गुनगुना पानी पीना चाहिए | यह स्नान आधे घटन्ते तक करना चाहिए | इस स्नान से पसीना शरीर से तेजी से नीकलता है और शरीर का विष बाहर निकालता है |

 
आप पढ़ रहे हैं: sugar ka ilaj
सूर्य तपित हरी बोतल का तैयार पानी एक दिव्य दवा है | इसे प्यास के हिसाब से रोजाना या खाली पेट दिन में सुअभ के तीन समय का नाश्ता, दोपहर का भोजन, राज के भोजन के आधा घंटे पहले 100 से 200 ग्राम तक की मात्रा में पीना चाहिए | सूर्य तपित हरा पानी खून शोधक होता है यानी यह खून को साफ़ करता है |शुगर का इलाज
हरा पानी गुर्दों, आँतों, त्वचा की कार्य प्रणाली आदि को सुधारता है और रक्त को दूषित पदार्थ से बाहर निकालने में मदद करता है |
  इसी तरह दिन में 3 बार नारंगी बोतल का तपा हुआ पानी पीने से भी आराम मिलता है | नारंगी बोतल के पानी की मात्रा 40 से 80 ग्राम में होनी चाहिए | मतलब एक बार में आप 40 से 80 ग्राम पानी पी सकते है |

प्राकृतिक  रूप से करें sugar ka ilaj

 मधुमेह के रोगी 24 घंटे का उपवास नींबू पानी की मदद से करें | उपवास प्रारंभ करने के पूर्व साधारण गुनगुने पानी में नींबू डालकर एनिमा से लगातार कुछ दिन तक बड़ी आंत की सफाई करनी चाहिए हफ्ते में एक दिन नींबू पानी या रसाहार के माध्यम से नियमित प्रवास करें | लंबे उपवास से बचना चाहिए | शुगर का इलाज

  कटि स्नान करें – 

टब में ताजा ठंडा पानी भरकर पैर और सिर को बाहर रख कर उसमें लेटना चाहिए नाभि से मूत्र केंद्रीय तक खुरदरे के कपड़े से धीरे धीरे मलें | यह क्रिया 10 से 20 मिनट तक करनी चाहिए इस स्नान के बाद शरीर को गर्म करने के लिए तेजी से टहले या कंबल ओढ़ कर लेट जाएं|

 

कैसा हो मधुमेह में खान-पान

मधुमेह बीमारी में खान-पान पर विशेष ध्यान देना रहता है| ऐसे पदार्थों का सेवन अधिक करें जिनमे फाइबर की मात्रा प्रचुर हो| इसके साथ कडवे पदार्थों का सेवन भी करें| चीनी का उयोग ज्यादा न करें| चटपटे, खट्टे तथा मीठे पदार्थ का त्याग कर दें| सुबह-शाम बिना चीनी वाली तुलसी की चाय पिएँ|

मधुमेह के लिए करें व्यायाम

शारीरिक व्यायाम करने से मधुमेह की मात्रा में कमी आती है| यह डायबिटीज के दर्द को कम करने का सर्वोत्तम उपाय है| हर रोज एरोबिक व्यायाम करीब आधे घंटे तक करने से विशेष लाभ मिलता है| आप एरोबिक एक्सरसाइज की शुरुआत हलके-फुल्के व्यायाम से कर सकते हैं| थक जाने पर पानी जरुर पिएँ और डिहाइड्रेशन की समस्या से बचे रहें| दो घंटे से ज्यादा दिन में मधुमेह के रोगियों को नहीं बैठना चाहिए| अगर हो सके तो हर डेढ़ घंटे में हल्का-फुल्का टहला करें|

पर्याप्त नींद अवश्य लें

कम नींद लेने से शुगर में खराबी नजर आ सकती है| अत्यधिक नींद लेना भी हानिकारक है| इसलिए शुगर के मरीजों से अनुरोध है कि वो पर्याप्त नींद लें न कम और न ही ज्यादा| मधुमेह के रोगियों के लिए साथ घंटे की नींद सबसे अच्छी है पर इस नींद को सुबह साढ़े पांच पहले के पहले पूरी कर लें|

धूम्रपान न करें

मधुमेह के रोगियों को किसी भी प्रकार का नशा नही करना चाहिए| खासकर धूम्रपान और शराब का नशा| अगर शराब अधिक पीते हैं तो डायबिटीज के कारण लीवर जल्दी फटने का खतरा बढ़ जाता है और धूम्रपान करने से फेफड़े पर बुरा प्रभाव पड़ता है|

कम करें मोटापा

अगर आप मोटे हैं और मधुमेह की शिकायत है तो सबसे पहले मतपे से निजात पाने की सोचें| जरुरत से ज्यादा मोटे व्यक्ति डायबिटीज का इलाज अच्छी तरह से नही करवा पाते हैं|

तनाव को कहें अलविदा

तनाव ज्यादा करने से मधुमेह बढ़ सकता है| इसलिए डायबिटीज के रोगी तनाव को अलविदा कह दें|

जामुन की गुठली

जामुन की गुठली का चूर्ण मधुमेह से राहत दिला सकता है| मधुमेह के रोगी इसके चूर्ण को दिन में चार बार एक चम्मच की मात्रा में पानी के साथ लें| इससे उन्हें विशेष लाभ देखने को मिलेगा|

मेथी दाने का चूर्ण

रोजाना दो चम्मच मेथी के चूर्ण को पानी के साथ लेने से मधुमेह में कमी आती है|

करेले का रस

रोजाना सुबह-शाम करेले के रस में हल्का काला नमक मिलाकर पिएँ| इससे शुगर में कमी आएगी|

पत्तीदार सब्जियां

पत्तीदार शाक-सब्जियों का सेवन मधुमेह रोग में जरुर करना चाहिए| इससे शर्करा की मात्रा नियंत्रण में रहती है और शरीर की अन्य कमजोरी में भी लाभ मिलता है|

diabetes के लिए होमोपैथिक इलाज sugar ka ilaj

नैट्रूम सल्फ़ 3x, 6x, 12x – यह diabetes के रोग के लिए बेहतर औषधि है| diabetes के दौरान मूत्र में शर्करा बहुत ज्यादा आती हो, मूत्र को कुछ देर रहने देने पर उसमे बालू जैसी रेट जमा हो जाए, जीभ पर पित्त की परत चढ़ी हो तो इस औषधि का प्रयोग करना उचित रहेगा|

नैट्रम फॉस 6 x

शुगर का इलाज: diabetes के इलाज में शरीर का एसिडिटी के लक्षण उपस्थित होने पर और sugar का स्त्राव होने पर यह औषधि करहार होती है|

काली फॉस 6 x – मानसिक और शारीरिक कमजोरी नीद न आने, त्याधिक सुस्ती, भूंख ज्यादा लगाने पर काली फॉस 6 x का इस्तेमाल किया जा सकता है| यह sugar ka ilaj के लिए बेहतर है| शुगर का इलाज

काली म्यूर 3x, 6x, 12x – बार बार मूत्र त्याग के लिए जाना पड़े और शक्कर की मात्रा ज्यादा हो तो इस गोली का सेवन करें|

लेसीथिन

लेसीथिन के लेने से sugar ka ilaj संभव है| यह diabetes में मूत्र में फास्फेट निष्काषित होने, sugar और अन्न्सार निकलने, अनिद्रा और भूलने की बीमारी को नष्ट करता है| इससे sugar को कंट्रोल किया जा सकता है|

फोस्फोरिक एसिड

sugar ka ilaj: diabetes में होने वाले स्नायुदुर्बलता, शारीरिक भार कम होने पर, रोगी के उदास होने पर फोस्फोरिक एसिड वाले तत्व का सेवन कराने से sugar का इलाज संभव है| शुगर का इलाज

ग्लिसरीनम

diabetes में ग्लिसरीनम लेने से diabetes के दौरान होने वाले मानसिक और शारीरिक निर्बलता, मूत्र में sugar की मात्रा का अधिकता होना, नुमोनिया हो जाना, आदि समस्याओं से निजत दिलाता है| इससे sugar का इलाज संभव है|sugar ka ilaj

क्यूप्रम आर्स

मधुमेह रोगी को रात में पाँव में एथान होने,सकने से आराम मिलने, मूत्र की मात्रा अचानक कम हो जाने पर, नेत्र में बेहोशी की अनुभूतियों में यह दवाई कारगर होती है| यह sugar ka ilaj करने में सहायक का कम करती है|

आर्सेनिक ब्रोम

इस औषधि को मूलार्क के रूप में प्रयोग किया जाता है| sugar ka ilaj के दौरान रोगी को प्यास लगाने पर, या शारीरिक दुर्बलता पर इसका सेवन करना उचित रहेगा|

लैक्टिक एसिड

diabetes का इलाज करना लैक्टिक एसिड आसन बना देता है| लैक्टिक एसिड का तत्व रोगी को खिलाने से भी sugar का इलाज संभव है|

  • रोगी को मर जाने का मन करता हो, गर्दन, छाती और कमर पर कड़े कपड़े नहीं रख सकता हो| सोते समय कष्ट बढ़ जाता हो और जिसे खिड़की दरवाजे खोल कर सांस लेने से आराम मिलता है| उसे लैकेसिस 30 या 200 शक्ति की दवा दें|
  • रोगी के शरीर में कंपन अधिक हो, अंग सुन्न हो जाता है जिसके कारण लकवा मार जाने की संभावना रहती हो तो, रोगी को अर्जेंट नाइट्रिकम 30 या 200 शक्ति की दवा दिन में दो बार दें| sugar ka ilaj
  • मधुमेह के पुराने रोगी को चाइना 30 या 200 शक्ति की दवा दिन में तीन बार दे|
  • रोगी वंशानुगत उपदंश या गुप्त रोगों से दुखी रहा हो, गुदा में सुइयां चुभने जैसी तेज पीड़ा हो, हथेलियों और बगलों में पसीना आता हो तो, नाइट्रिक एसिड 6 या 30 शक्ति की दवा दिन में तीन बार दें|
  • मानसिक, शारीरिक, कमजोरी, पेशाब बहुत आता हो, पेशाब का रंग दूधिया हो, खड़े होने पर चक्कर आता हो, चेहरा पीला पड़ जाए और सूखे और बैठे रहते हो तब, फास्फोरिक एसिड 6 या 30 शक्ति की दवा दिन में तीन बार दे|
  • फास्फोरस मधुमेह की सबसे अच्छी दवा है| इसमें मधुमेह की सभी विकृतियों और लक्षणों को नष्ट करने की अद्भुत शक्ति होती है| होम्योपैथी के जानकार डॉक्टर इस दवा का इस्तेमाल अवश्य ही करते हैं| 30 से 200 शक्ति की फास्फोरस दवा दिन में दो या तीन बार लेने से विशेष लाभ होता है|  शुगर का इलाज
  • नक्स वोमिका भी मधुमेह की एक अच्छी और कारगर दवा है| चिड़चिड़े स्वभाव के अय्याशी का जीवन बिताने वाले नशे के आदी रोगियों के लिए यह विशेष लाभकारी है| किसी डॉक्टर के बिना सलाह के दवा लेना घातक भी हो सकता है अतः सलाह लेना आवश्यक है|sugar ka ilaj

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *